Vishnu Chalisa


Bhagavan  Shree Vishnu

|| Doha ||

Vishnu Suniye Vinay Savak Ki Chitlaya |
Kirat Kuch Varnan Karu Dije Gyan Bataya ||

Bhagavan  Shree Vishnu
Bhagavan  Shree Vishnu

Namo Vishnu Bhagwan Kharari |
Kashat Nashavan Akhil Vihari ||
Prabal Jagat Mai Shakti Tumhari |
Tribhuvan Fal Rahi Ujiyari ||

Sundar Roop Manohar Surat |
Saral Swabhav Mohini Murat ||
Tan Par Pitambar Ati Sohat |
Bejanti Mala Maan Mohat ||

Shankh Chakr Kar Gada Viraje |
Dekhat Detaye Asur Dal Bhaje ||
Satay Dharam Mad Lobh Na Gaje |
Kam Krodh Mad Lobh Na Chaje ||

Santbhakt Sajan Manranjan |
Danuj Asur Dushtan Dal Ganjan ||
Such Upjaye Kashat Sab Bhanjan |
Dhosh Mitaye Karat Jan Sannjan ||

Pap Kat Bhav Sindu Utaran |
Kasht Nashkar Bakat Ubharn ||
Karat Anek Roop Prabhu Dharan |
Kaval Aap Bhagati Ke Karan ||

Dharani Dhenu Ban Tumhi Pukara |
Tab Tum Roop Ram Ka Dhara ||
Bhar Uthar Asur Dal Maar |
Ravan Aadik Ko Sanhara ||

Aap Varah Roop Banaya |
Hiranyash Ko Maar Giraya ||
Dhar Matyas Tan Sindu Banaya |
Chodah Ratann Ko Nikalaya ||

Amilakh Aasur Dundu Machaya |
Roop Mohini Aap Dikhaya ||
Devan Ko Amarat Pan Karaya |
Asuran Ko Chabi Se Bahalaya ||

Kurm Roop Dhar Sindu Mathaya |
Mandrachal Giri Turan Uthaya ||
Shankar Ka Tum Fand Chudaya |
Bhasmasur Ka Roop Dekhaya ||

Vedan Ko Jab Asur Dubaya |
Kar Prabanda Unhee Tuntalaya ||
Mohit Banker Khalahi Nachaya |
Ushi Kar Se Bahasam Karaya ||

Asur Jalandar Ati Baldai |
Sankar Se Un Kinhi Ladayi ||
Har Par Shi Sakal Banaye |
Kin Sati Se Chal Khal Jayi ||

Sumiran Kin Tumhe Shivrani |
Batlai Sab Vipat Kahani ||
Tab Tum Bane Muneshwar Gyani |
Varnda Ki Sab Surti Bhulani ||

Ho Shaparsh Dharm Sharati Mani |
Hani Asur Uur Shiv Sanatni ||
Tumne Dhur Prahlad Ubhare |
Hirnakush Aadik Khal Mare ||

Ganika Aur Ajamil Tare |
Bhahut Bhakt Bhav Sindu Utare ||
Harhu Sakal Santap Hamare |
Krapa Karhu Kari Sirjan Hare ||

Dekhhu Mai Nit Darsh Tumhare |
Din Bandu Bhaktan Hitkare ||
Chahat Apka Sevak Darshan |
Karhu Daya Apni Madhusudan ||

Janu Nahi Yogay Jap Poojan |
Hoye Yagy Shistuti Anumotan ||
Shildaya Santosh Shishan |
Vidhit Nahi Vatrbhodh Vilshan ||

Karhu Apka Kis Vidhi Poojan |
Kumati Vilok Hote Dukh Bhishan ||
Karhu Pradam Kon Vidisumiran |
Kon Bhati Mai Karhu Samarpan ||

Sur Munni Karat Sada Sivkai |
Harshit Rahat Param Gati Paye ||
Din Dukhin Par Sada Sahai |
Nij Jan Jan Lave Apnayi ||

Pap Dosh Santap Nashao |
Bhav Bandan Se Mukat Karayo ||
Sut Sampati De Such Upjao |
Nij Charan Ka Das Banao ||

Nigam Sada Se Vanay Sunao |
Patte Sune So Jan Such Pave ||

Bhagavan  Shree Vishnu

Comments

Write a Reply or Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


« »

तीन आंखों वाले श्री गणेश का मंदिर ( राजस्थान सवाई माधोपुर )

यह स्वयंभू गणपति रणथंभौर जंगल में एक पहाड़ की चट्टान से प्रकट हुआ है जो समुद्र तल से 2000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह मन्दिर


शुभ मंगल का प्रतिक स्वस्तिक 

स्वस्तिक पुरे युरेशिया (यूरोप और एशिया) में स्वस्तिक पुरातन धार्मिक चिन्ह के रूप में जाना जाता है। भारतीय संस्कृति में स्वस्तिक को देवत्य और आध्यात्मिकता के प्रतिक के रूप में उपयोग किया जाता रहा है।..


क्यों करें घर में गणेश विसर्जन?

श्री गणेश के लाखों भक्त है और गणेश चतुर्थी के उपलक्ष्य में भारत वर्ष के लगभग हर घर में गणपति जी की स्थापना की जाती है। हर घर गणेश, घर घर गणेश। और जैसे की स्थापना की जाती है…..


Bada Ganpati Indore | बड़ा गणपति इंदौर

बड़ा गणपति इंदौर – जैसा की नाम से प्रतीत होता है बड़ा गणपति मंदिर में श्री गणेश की विशाल मूर्ति है। मूर्ति की बड़े आकर के कारण भक्तों ने इसका नाम…..


गणेश चतुर्थी क्यों मनाई जाती है?

पुरे विश्व में गणेश चतुर्थी को बड़े हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है और सभी गणेश भक्त 10 दिनों तक गणपति की बड़ी सेवा करते हैं। श्री गणेश, महादेव


मिट्टी के गणेश जी कैसे बनाते हैं

आगामी 2 सितम्बर 2019 को हम सभी के चहेते श्री गणेश का आगमन गणेश चतुर्थी के आरम्भ के साथ हमारे बिच होगा। हर उम्र हर वर्ग और सिर्फ भारत ही नहीं विदेशों में भी गणपति जी का स्वागत बड़ी ही धूम-धाम और हर्ष..


घूमतेगणेश की जानकारी

आमंत्रण
आमंत्रण

घूमते गणेश आयोजन में मंगलमूर्ति श्रीगणेश को आमंत्रित करने के लिए यजमान को शहर के बंधू बांधवो को आमंत्रित करना होगा ताकि अधिक से अधिक लोग आशीर्वाद ले सके साथ ही गणराज भी भक्तो की भीड़ से आनंदित हो उठे , तीन दिनों के इस आयोजन में विघ्हर्ता के सिंहासन को सजा कर , भक्तो और गणपति.......


कहाँ कहाँ जायेंगे
कहाँ कहाँ जायेंगे

घूमते गणेश आयोजन के तहत मंगलमूर्ति गणराज अपने भक्तों के आमंत्रण पर उनके आयोजनों में सम्मिलित होंगे, जैसे शादी, फैक्ट्री का शुभ आरंभ, नये व्यव्साय का आरम्भ या कोई और शुभ अवसर और अपने आशीर्वाद से उस आयोजन को अभूतपूर्व बनाएंगे और सफलता का आशीर्वाद प्रदान करेंगे।.........


श्री गणेश


तीन आंखों वाले श्री गणेश का मंदिर ( राजस्थान सवाई माधोपुर )

यह स्वयंभू गणपति रणथंभौर जंगल में एक पहाड़ की चट्टान से प्रकट हुआ है जो समुद्र तल से 2000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह मन्दिर



Ganesha Sketch

Ganesha Sketch Here is very beautiful  sketch of Ganesh. These Ganesha sketch are  designed by the sketch Artist Sumeet kale during the period of ganesh chaturthi 2019. 



आओ गजानन प्यारे


आओ गजानन प्यारे गिरजा के दुलारे (aao gajanan pyare girja ke) ॥

सब देवन में देव कहाए
पूजो चरण तुम्हारे  गिरिजा के दुलारे ॥

हरी हरी दूबा तुमको चढ़ाए
चंदन झूला डारे गिरिजा के दुलारे 

लड़ुअन को हम भोग लगाए
पलक पावड़े डारे गिरिजा के दुलारे ॥

आज मनाए आसन लगाके
गा गा गीत तुम्हारे गिरिजा के दुलारे ॥

aao gajanan pyare girja ke
आओ गजानन प्यारे

यह आरती गणेश चतुर्थी ,गणेश पूजा पर गयी जाती है । गणेश चतुर्थी एक बहुत बड़ा उत्सव है गणेश चतुर्थी पर कहि जगह यह भजन गाये जाते है,आने वाली गणेश चतुर्थी आपको भी यह आरती गाणी चाहिए,हमारे वेबसाइट पर गणेश भजन्स, शिवा भजन्स,हनुमान भजन्स सब तरह के भजन्स और आरती उपलब्ध है।

aao gajanan pyare girja ke dulare bhajan


आओ गजानन प्यारे

आओ गजानन प्यारे गिरजा के दुलारे (aao gajanan pyare girja ke) ॥ सब देवन में देव कहाएपूजो चरण तुम्हारे  गिरिजा के दुलारे ॥ हरी हरी दूबा तुमको चढ़ाएचंदन झूला डारे गिरिजा के दुलारे ॥ लड़ुअन को हम भोग लगाएपलक पावड़े डारे गिरिजा के दुलारे ॥ आज मनाए आसन लगाकेगा गा गीत तुम्हारे गिरिजा के दुलारे ॥ […]


एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर – जटोली शिव मंदिर [Asia’s tallest Shiva temple – Jatoli Shiva Temple]

पहाड़ की पर निर्मित बहुत ही भव्य और शानदार शिव मंदिर जो की दक्षिण-द्रविड़ शैली में बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण जनता के सहयोग से 1974 में किया गया था। जटोली…..


भगवान श्री कृष्ण और गोपियों की सुन्दर और दुर्लभ सत्य कथा

एक बार गोपियों ने श्री कृष्ण से कहा की ‘हे कृष्ण हमे अगस्त्य ऋषि को भोग लगाने जाना है, और ये यमुना जी बीच में पड़ती है अब बताओ कैसे जाये भगवान श्री कृष्ण ने कहा की जब तुम यमुना जी के पास जाओ तो कहना की, हे यमुना जी अगर श्री कृष्ण ब्रह्मचारी है […]


मैं न होता तो क्या होता

*”मैं न होता तो क्या होता”* अशोक वाटिका में जिस समय रावण क्रोध में भरकर तलवार लेकर सीता माँ को मारने के लिए दौड़ पड़ा, तब हनुमान जी को लगा कि इसकी तलवार छीन कर इसका सिर काट लेना चाहिये, किन्तु अगले ही क्षण उन्हों ने देखा मंदोदरी ने रावण का हाथ पकड़ लिया, यह […]


[Tulsi Vivah 2019] तुलसी विवाह की पूजा कैसे की जाती है?

तुलसी और भगवान शालिग्राम (विष्णु या उनके अवतार, श्रीकृष्ण) की शादी कार्तिक महीने (अक्टूबर – नवंबर) में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय हिंदू अनुष्ठान है। तुलसी विवाह विधि पूजा प्रक्रिया : दीपावली त्योहार के बाद पड़ने वाली एकादशी पर पूजा होती है। कुछ लोग इसे पूर्णिमा के दिन करते हैं।तुलसी विवाह के लिए आवश्यक दो […]


पवित्र और चमत्कारिक मेहंदीपुर बालाजीमहराज की सम्पूर्ण कथा!!!!!

राजस्थान के सवाई माधोपुर और जयपुर की  सीमा रेखा पर स्थित मेंहदीपुर कस्बे में बालाजी का एक अतिप्रसिद्ध तथा प्रख्यात मन्दिर है जिसे “श्री मेंहदीपुर बालाजी मन्दिर” के नाम से जाना जाता है।  भूत प्रेतादि ऊपरी बाधाओं के निवारणार्थ यहांँ आने वालों का ताँंता लगा रहता है। तंत्र मंत्रादि ऊपरी शक्तियों से ग्रसित व्यक्ति भी […]


महादेव


एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर – जटोली शिव मंदिर [Asia’s tallest Shiva temple – Jatoli Shiva Temple]

पहाड़ की पर निर्मित बहुत ही भव्य और शानदार शिव मंदिर जो की दक्षिण-द्रविड़ शैली में बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण जनता के सहयोग से 1974 में किया गया था। जटोली…..



शिवलिंग का अर्थ और उससे जुड़ी मान्यताऐं 

जानकारी और ज्ञान के आभाव के कारण शिवलिंग को कुछ लोग पुरुष के शरीर के एक अंग से सम्बंधित कर भ्रमित करते हैं जबकि यह सच नहीं है। भारत की संस्कृति …….


हनुमान


श्री हनुमान चालीसा

-: दोहा :-
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निजमनु मुकुरु सुधारि
बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार



हनुमान जी की आरती

आरती कीजै हनुमान लला की।
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।

जाके बल से गिरिवर कांपे।
रोग दोष जाके निकट न झांके।।


श्री शनि देव

Jagannathv
शनि चालीसा

॥दोहा॥
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल ।दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल ॥ जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज ।करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज ॥

Jagannathv
शनि कवचं

अथ श्री शनिकवचम्
अस्य श्री शनैश्चरकवचस्तोत्रमंत्रस्य कश्यप ऋषिः IIअनुष्टुप् छन्दः II शनैश्चरो देवता II शीं शक्तिः II शूं कीलकम् II शनैश्चरप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः IIनिलांबरो नीलवपुः किरीटी गृध्रस्थितस्त्रासकरो धनुष्मान् II

श्री राम

Jagannathv

श्री राम चालीसा

श्री रघुवीर भक्त हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
निशिदिन ध्यान धरै जो कोई। ता सम भक्त और नहिं होई॥1॥
ध्यान धरे शिवजी मन माहीं। ब्रह्म इन्द्र पार नहिं पाहीं॥
दूत तुम्हार वीर हनुमाना। जासु प्रभाव तिहूं पुर जाना॥2॥

Jagannathv

आरती श्री राम जी

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन, हरण भवभय दारुणम्।
नव कंज लोचन, कंज मुख कर कंज पद कंजारुणम्॥
श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन
कन्दर्प अगणित अमित छवि, नव नील नीरद सुन्दरम्।
पट पीत मानहुं तड़ित रूचि-शुचि