ठुमक चलत रामचंद्र, बाजत पैंजनियां |

Thumak chalat ramchandra

Thumak chalat ramchandra

Thumak chalat ramchandra bajat paijaniya

ठुमक चलत रामचंद्र, बाजत पैंजनियां |

किलकि किलकि उठत धाय, गिरत भूमि लटपटाय |
धाय मात गोद लेत, दशरथ की रनियां ||

अंचल रज अंग झारि, विविध भांति सो दुलारि |
तन मन धन वारि वारि, कहत मृदु बचनियां ||

विद्रुम से अरुण अधर, बोलत मुख मधुर मधुर |
सुभग नासिका में चारु, लटकत लटकनियां ||

तुलसीदास अति आनंद, देख के मुखारविंद |
रघुवर छबि के समान, रघुवर छबि बनियां ||

घुमतेगणेश.कॉम में गणेश मन्त्र , शिवा मंत्र , हनुमान मंत्र सभी तरह के मन्त्र है, और भी गणेश भजन्स , शिव भजन्स , गणेश चालीसा , शिव चालीसा, हनुमान चालीसा , हर तरह के चालीसा हमारे वेबसाइट पर है,गणेश जी की हर तरह की जानकारी है|