Shree Bhairav Chalisa


Bhairav Chalisa Ratna

|| DOHA ||

Shri ganapati, guru, gauri pada, prema sahita dhari maatha.
Chalisa vandana karaun, shri shiva bhairavanaatha.

Shri bhairava sankata harana, mangala karana kripaala.
Shyaama varana vikaraala vapu, lochana laala vishaala.

|| CHAUPAI ||

Jaya jaya shri kaali ke laalaa, jayati jayati kaashii- kutavaalaa.
Jayati ‘batuka- bhairava’ bhaya haarii, jayati ‘kaala- bhairava’ balakaarii.

Jayati ‘naatha- bhairava’ vikhyaataa, jayati ‘sarva- bhairava’ sukhadaataa.
Bhairava ruupa kiyo shiva dhaarana, bhava ke bhaara utaarana kaarana.

Bhairava rava suni hvai bhaya duurii, saba vidhi hoya kaamanaa puurii.
Shesha mahesha aadi guna gaayo, kaashii- kotavaala kahalaayo..

Jataa juuta shira chandra viraajata, baalaa, mukuta, bijaayatha saajata .
Kati karadhanii ghuungharuu baajata, darshana karata sakala bhaya bhaajata..

Jiivana daana daasa ko diinhyo, kiinhyo kripaa naatha taba chiinhyo.
Vasi rasanaa bani saarada- kaalii, diinhyo vara raakhyo mama laalii..

Dhanya dhanya bhairava bhaya bhanjana, jana manaranjana khala dala bhanjana .
Kara trishula damaruu shuchi kodaa, kripaa kataaksha suyasha nahin thodaa..

Jo bhairava nirbhaya guna gaavata, ashtasiddhi nava nidhi phala paavata.
Ruupa vishaala kathina dukha mochana, krodha karaala laala duhun lochana..

Aginat bhuta preta sanga dolat, bam bam bam shiva bam bam bolat.
Rudrakaaya kaalii ke laalaa, mahaa kaalahuu ke ho kaalaa..

BaTuka naatha ho kaala ganbhiiraa, shveta, rakta aru shyaama shariiraa.
Karata tinhun rupa prakaashaa, bharata subhaktana kahan shubha aashaa.

Ratna jadita kanchana sinhaasana, vyaaghra charma shuchi narma suaanana.
Tumahi jaai kaashihin jana dhyaavahin, ishvanaatha kahan darshana paavahin..

Bhairav Chalisa Ratna

Jaya prabhu sanhaaraka sunanda jaya, jaya unnata hara umaa nanda jaya.
Bhiima trilochana svaana saatha jaya, vaijanaatha shri jagatanaatha jaya.

Mahaa bhiima bhiishana shariira jaya, rudra trayambaka dhiira viira jaya.
Ashvanaatha jaya pretanaatha jaya, svaanaarudha sayachandra maatha jaya

Nimisha digambara chakranaatha jaya, gahata anaathana naatha haatha jaya.
Treshalesha bhuutesha chandra jaya, krodha vatsa amaresha nanda jaya.

Shri vaamana nakulesha chanda jaya, krityaau kiirati prachanda jaya.
Rudra batuka krodhesha kaaladhara, chakra tunda dasha paanivyaala dhara .

Kari mada paana shambhu gunagaavata, chaunsatha yogina sanga nachaavata.
Karata kripaa jana para bahu dhangaa, kaashii kotavaala adabangaa.

Deyan kaala bhairava jaba sotaa, nasai paapa motaa se motaa.
Janakara nirmala hoya shariiraa, mitai sakala sankata bhava piiraa.

Shri bhairava bhuutonke raajaa, baadhaa harata karata shubha kaajaa.
Ailaadii ke duhkha nivaarayo, sadaa kripaakari kaaja samhaarayo .

Sundara daasa sahita anuraagaa, shri durvaasaa nikata prayaagaa.
“Shri bhairava jii kii jaya” lekhyo, sakala kaamanaa puurana dekhyo.

|| DOHA ||

Jai Jai Jai Bhairav Batuka Swami Sankat Taar,
Kripa Daas par kijiye Shankar ke Avataar,

Jo yeh Chalisa Pare prem sahit shat baar, 
us ghar sarvanand ho,vaibhav baare apaar.

Bhairav Chalisa Ratna

Comments

Write a Reply or Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


« »

[Shree Siddhivinayak Temple] भगवान गणेश को समर्पित सिद्धिविनायक मंदिर सपनों की नगरी मुंबई के प्रभादेवी में स्थित

श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो भगवान श्री गणेश को समर्पित है। श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर..


तीन आंखों वाले श्री गणेश का मंदिर ( राजस्थान सवाई माधोपुर )

यह स्वयंभू गणपति रणथंभौर जंगल में एक पहाड़ की चट्टान से प्रकट हुआ है जो समुद्र तल से 2000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह मन्दिर


शुभ मंगल का प्रतिक स्वस्तिक 

स्वस्तिक पुरे युरेशिया (यूरोप और एशिया) में स्वस्तिक पुरातन धार्मिक चिन्ह के रूप में जाना जाता है। भारतीय संस्कृति में स्वस्तिक को देवत्य और आध्यात्मिकता के प्रतिक के रूप में उपयोग किया जाता रहा है।..


क्यों करें घर में गणेश विसर्जन?

श्री गणेश के लाखों भक्त है और गणेश चतुर्थी के उपलक्ष्य में भारत वर्ष के लगभग हर घर में गणपति जी की स्थापना की जाती है। हर घर गणेश, घर घर गणेश। और जैसे की स्थापना की जाती है…..


Bada Ganpati Indore | बड़ा गणपति इंदौर

बड़ा गणपति इंदौर – जैसा की नाम से प्रतीत होता है बड़ा गणपति मंदिर में श्री गणेश की विशाल मूर्ति है। मूर्ति की बड़े आकर के कारण भक्तों ने इसका नाम…..


गणेश चतुर्थी क्यों मनाई जाती है?

पुरे विश्व में गणेश चतुर्थी को बड़े हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है और सभी गणेश भक्त 10 दिनों तक गणपति की बड़ी सेवा करते हैं। श्री गणेश, महादेव


घूमतेगणेश की जानकारी

आमंत्रण
आमंत्रण

घूमते गणेश आयोजन में मंगलमूर्ति श्रीगणेश को आमंत्रित करने के लिए यजमान को शहर के बंधू बांधवो को आमंत्रित करना होगा ताकि अधिक से अधिक लोग आशीर्वाद ले सके साथ ही गणराज भी भक्तो की भीड़ से आनंदित हो उठे , तीन दिनों के इस आयोजन में विघ्हर्ता के सिंहासन को सजा कर , भक्तो और गणपति.......


कहाँ कहाँ जायेंगे
कहाँ कहाँ जायेंगे

घूमते गणेश आयोजन के तहत मंगलमूर्ति गणराज अपने भक्तों के आमंत्रण पर उनके आयोजनों में सम्मिलित होंगे, जैसे शादी, फैक्ट्री का शुभ आरंभ, नये व्यव्साय का आरम्भ या कोई और शुभ अवसर और अपने आशीर्वाद से उस आयोजन को अभूतपूर्व बनाएंगे और सफलता का आशीर्वाद प्रदान करेंगे।.........


श्री गणेश


[Shree Siddhivinayak Temple] भगवान गणेश को समर्पित सिद्धिविनायक मंदिर सपनों की नगरी मुंबई के प्रभादेवी में स्थित

श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो भगवान श्री गणेश को समर्पित है। श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर..



श्री सिद्धिविनायक मंदिर – न्यू जर्सी

श्री सिद्धिविनायक मंदिर न्यू जर्सी (यूएसए) 1916 Lakewood Rd।, टॉम्स नदी, एनजे 08755 2012 के अंत में 6 एकड़ की संपत्ति खरीदी गई थी; भूमिपूजन जून में किया गया था; चरण 1 में , 3,300 वर्ग फुट पर मंदिर और अन्य साइट जैसे कि पार्किंग स्थल, भूनिर्माण, साइनेज को उसी गर्मियों में मंजूरी दी गई थी। मुंबई के […]



[Shree Siddhivinayak Temple] भगवान गणेश को समर्पित सिद्धिविनायक मंदिर सपनों की नगरी मुंबई के प्रभादेवी में स्थित


परिचय

श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो भगवान श्री गणेश को समर्पित है। श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर प्रभादेवी, मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है। इस मंदिर को 19 नवंबर 1801 में लक्ष्मण विठु और देउबाई पाटिल ( Mrs.Deubai Patil ) द्वारा बनाया गया था। सिद्धिविनायक मंदिर मुंबई में सबसे अमीर मंदिरों में से एक है और अक्सर यहाँ प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेता और राजनेता दर्शन के लिए आते है ।

आज मुम्बई का सिद्धिविनायक मंदिर (siddhivinayak temple)  के शीर्ष पर एक स्वर्ण गुंबद के साथ एक अनूठा छह मंजिला निर्माण है। श्री सिद्धिविनायक की काली मूर्ति में एक असामान्य विशेषता है, सूंड दाईं ओर मुड़ता है जो अक्सर गणेश मूर्तियों पर नहीं मिलता है।

मुंबई के सबसे व्यस्त मंदिरों में से एक होने के कारण, लोग अक्सर सिद्धिविनायक लाइव दर्शन के लिए कतार लगाते हैं।
मंदिर को दो द्वार हैं, जिनसे भक्त मंदिर परिसर में प्रवेश कर सकते हैं। सिद्धि गेट आपको मुफ्त दर्शन की अनुमति देता है जबकि रिद्धि गेट आपको एक सामान्य दर्शन की अनुमति देता है और सामान्य दिन दर्शन में लगभग 30-45 मिनट और मंगलवार को लगभग 1.5 -2 घंटे लगते हैं। सिद्धिविनायक मंदिर में वरिष्ठ नागरिकों के लिए विशेष दर्शन की व्यवस्था करता है । यहां तक ​​कि आप सिद्धिविनायक जी के ऑन लाइन लाइव दर्शन भी कर सकते हैं।


इतिहास [siddhivinayak temple history]

यह मंदिर प्रभादेवी में काकासाहेब गाडगिल मार्ग और एसकेबोले मार्ग के कोने पर है, यह एक पेशेवर ठेकेदार, स्वर्गीय श्री लक्ष्मण विठू पाटिल द्वारा स्वर्गीय श्रीमती देउबाई पाटिल ( Mrs.Deubai Patil ) के वित्तीय समर्थन और निर्देशों के अनुसार बनाया गया था। , जो माटुंगा से आग्री समाज की एक अमीर महिला थी। हालाँकि वह काफी अमीर थी, पर उनका कोई बच्चा नहीं था। 

मंदिर के निर्माण का विचार प्रार्थना के समय स्वर्गीय देउबाई ( Mrs.Deubai Patil )को आया था, उन्होंने विनम्रतापूर्वक भगवान गणेश से अनुरोध किया और कहा, “हालाँकि मुझे कोई बच्चा नहीं हो सकता है, पर अन्य महिलाओं को जो निःसंतान हैं, मंदिर जाने पर और प्रार्थना करने पर संतान का सुख प्राप्त करें । मंदिर के सफल बाद के इतिहास को देखते हुए, ऐसा प्रतीत होता है कि भगवान गणेश ने इस विनम्र अनुरोध और स्वर्गीय देउबाई पाटिल ( Mrs.Deubai Patil ) के पवित्र विचारों और कार्यों के लिए सिर हिलाया। इसलिए, यह सिद्धिविनायक इसके लिए प्रसिद्ध है और मराठी में “नवसाचा गणपति” या “नवसाल पावनरा गणपति” के रूप में जाना जाता है।


श्री सिद्धिविनायक (shri siddhivinayak)  की मूर्ति को एक काले पत्थर से उकेर कर बनाया था और उनकी दाईं ओर सूंड के साथ 2’6 ”(750 मिमी) ऊँचा और 2’ (600 मिमी) चौड़ी बनाई है।
यह भगवान गणेश की असामान्य उपस्थिति है। और उनके ऊपरी दाएं एक कमल और बाएं हाथ एक कुल्हाड़ी हैं, जबकि निचले दाएं एक माला (जपमाला) और बाएं हाथ “मोदक” से भरे हुए हैं। एक सांप बाएं कंधे पर दाईं ओर से पेट पर दिखाई देता है। देवता के माथे पर एक आंख है जैसा कि यह पवित्र धागा है,
भगवान गणेश की मूर्ति के दोनों किनारों पर, एक-एक मूर्ति राखी है जो की रिद्धि और सिद्धि देवी की है, जो पीछे से गणेश की मूर्ति से बाहर झांकते हुए दिखाई देते हैं। भगवान गणेश के साथ इन दो देवताओं के कारण, इस मंदिर को सिद्धिविनायक गणपति मंदिर के रूप में जाना जाता है। ये देवी पवित्रता, सफलता, धन और समृद्धि का प्रतीक हैं।

लगभग 125 साल पहले, श्री अक्कलकोट स्वामी समर्थ के महान शिष्य, स्वर्गीय रामकृष्ण जम्भेकर महाराज, जो भगवान गणेश और गायत्री मंत्र के भी भक्त थे, जो सिद्धि का आशीर्वाद था। एक दिन स्वामी समर्थ ने श्री जम्भेकर से दिव्य मूर्तियाँ लाने को कहा। मूर्तियों में से, दो मूर्तियों को छोड़कर, स्वामी समर्थ ने एक अन्य शिष्य श्री चोलप्पा के घर के सामने के आंगन में दफनाने के लिए कहा, जहाँ स्वामी समर्थ अस्थायी रूप से निवास करते थे। श्री जम्भेकर को भगवान गणेश के सामने दो मूर्तियों को अमानवीय करने के लिए भी कहा गया था कि वे आमतौर पर पूजा करते थे। स्वामी समर्थ के साथ अपनी उपस्थिति के दौरान, श्री जम्भेकर ने भविष्यवाणी की कि 21 साल बाद एक मंदिर का पेड़ इस स्थान पर बढ़ेगा, वहासे स्वयंभू गणेश पवित्र स्थान पर दिखाई देंगे। उसके बाद से लोगों की भक्ति आगे बढ़ती जाएगी।

कुछ वर्षों के बाद, मुंबई के दादर में समुद्र तट के पास जम्भेकर महाराज, जिन्होंने स्वर्गीय पुजारी गोविंद चिंतामण फतक से कहा कि वे श्री सिद्धिविनायक मंदिर की नियमित धार्मिक पूजा आदि करें। पुजारी फाटक के पूर्ववर्ती स्वर्गीय नामदेव केलकर मंदिर में पुजारी-लकड़ी का काम करते थे।

उपलब्ध जानकारी और रिकॉर्ड से, मंदिर परिसर की भूमि लगभग 2550 वर्गमीटर थी। मंदिर के पूर्वी और दक्षिणी ओर एक झील थी, जो लगभग अनुमानित 30 x 40 वर्गमीटर थी । इस झील का निर्माण नारदुल्ला द्वारा 19 वीं शताब्दी में किया गया था, ताकि क्षेत्र में आने वाले पानी की कमी को दूर किया जा सके। झील, बाद में, भरा हुआ था, और अब यह खेल का मैदान है और काकासाहेब गाडगिल मार्ग का एक हिस्सा है।


सिद्धिविनायक मंदिर (siddhivinayak mandir)आरती

श्री सिद्धिविनायक (shree siddhivinayak) की आरती दिन, मौसम और त्योहार के अनुसार अलग अलग समय की जाती है

सोमवार और बुधवार (siddhivinayak temple timings)

काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – प्रातः ५:३० से ६:०० बजे
श्री दर्शन – सुबह ६:०० बजे से दोपहर १२:१५ बजे तक
नैवेद्य – दोपहर 12:15 बजे से 12:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 12:30 बजे से शाम 7:20 बजे तक
आरती या शाम की प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से रात 8:00 बजे तक
श्री दर्शन – रात्रि ८:०० बजे से ९: ५० बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले अंतिम आरती – सुबह 9:50 बजे

मंगलवार

श्री दर्शन – 3:15 AM से 4:45 AM
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन – सुबह ५:३० से १२:१५ बजे
नैवेद्य – दोपहर 12:15 बजे से 12:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 12:30 बजे से 8:45 बजे तक
आरती या रात की प्रार्थना – ९: ३० बजे। से रात 10:00 बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले शेजार्ती या अंतिम आरती – 12:30 पूर्वाह्न

विनायकी चतुर्थी

काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:30 बजे से शाम 6 बजे तक
श्री दर्शन – सुबह ६:०० बजे से शाम 6:३० बजे तक
अभिषेक, नैवेद्य और पूजा आरती – सुबह 7:30 बजे से दोपहर एक बजे तक (इस दौरान मंदिर के अंदर भक्तों को जाने की अनुमति नहीं है)
श्री दर्शन – दोपहर १:०० से 1:२० तक
आरती या शाम की प्रार्थना – शाम PM:३० बजे से Pr:०० बजे तक
श्री दर्शन – रात्रि PM:०० बजे से ९: ५० बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले शेजार्ती या अंतिम आरती – रात 9:50 बजे

संकष्टी चतुर्थी

श्री दर्शन प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः ४:३० से ४:४५ तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 से शाम 5:30 तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – सुबह 5:30 बजे से रात में चन्द्रोदय से 90 मिनट पहले
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य – चंद्रोदय से 90 मिनट पहले (इस दौरान मंदिर में भक्तों को अनुमति नहीं है)
रात में आरती या प्रार्थना – चंद्रोदय के बाद (अभिषेक के बाद पूजा)
श्री दर्शन – कतार के बाद आरती तक
मंदिर के बंद होने से पहले शेजार्ती या अंतिम आरती – चंद्रोदय के 90 मिनट

माघी श्री गणेश जयंती

श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः ४:०० से अपराह्न ४:४५ तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 से शाम 5:30 तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः ५:३० से प्रातः १०:४५ तक
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य और आरती – सुबह 10:45 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर १:३० से 1:२० तक
आरती या प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से रात 8:00 बजे तक
श्री दर्शन : रात 8:00 बजे से शेजारती तक
मंदिर बंद होने से पहले दिन की शेजार्ती या अंतिम आरती – रथ-शोभा यात्रा के बाद

भाद्रपद श्री गणेश चतुर्थी

श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः ४:०० से अपराह्न ४:४५ तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 से शाम 5:30 तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः ५:३० से प्रातः १०:४५ तक
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य और आरती – सुबह 10:45 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर १:३० से 1:२० तक।
शाम को आरती या प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से रात 8:00 बजे तक
श्री दर्शन या रात्रि दर्शन – रात्रि to:०० बजे से १०:०० बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले दिन की शेजार्ती या अंतिम आरती – रात 10:00 बजे

मुंबई के लोग सिद्धिविनायक मंदिर में जाने का आनंद क्यों लेते हैं?

श्री सिद्धि विनायक, इस मंदिर के देवता विनायक [गणेश] (siddhivinayak ganesh) भक्तों के बीच एक आम धारणा के अनुसार अपनी इच्छाओं को प्रदान करने के लिए माना जाता है। वास्तव में “सिद्धि” का अर्थ है प्राप्ति। यह इस तथ्य के साथ कि श्री गणेश जी सबसे अधिक प्रिय देवताओं में से एक हैं, जो हमारे लोगों के उत्साह को बढ़ाते हैं और उन्हें मुंबई के इस प्रसिद्ध मंदिर में जाने के लिए प्रेरित करते हैं।


[Shree Siddhivinayak Temple] भगवान गणेश को समर्पित सिद्धिविनायक मंदिर सपनों की नगरी मुंबई के प्रभादेवी में स्थित

श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो भगवान श्री गणेश को समर्पित है। श्री सिद्धिविनायक गणपति मंदिर..


श्री सिद्धिविनायक मंदिर – न्यू जर्सी

श्री सिद्धिविनायक मंदिर न्यू जर्सी (यूएसए) 1916 Lakewood Rd।, टॉम्स नदी, एनजे 08755 2012 के अंत में 6 एकड़ की संपत्ति खरीदी गई थी; भूमिपूजन जून में किया गया था; चरण 1 में , 3,300 वर्ग फुट पर मंदिर और अन्य साइट जैसे कि पार्किंग स्थल, भूनिर्माण, साइनेज को उसी गर्मियों में मंजूरी दी गई थी। मुंबई के […]


8 famous temples of Ganesha

8 famous temples of Ganesha

1801 was built by Shri Lakshman Vitu and Deewai Patil Since then, Shri Siddhivinayak Temple is famous in the country as well as abroad and lakhs of devotees come to visit Siddhivinayak.


गणेश जी की आरती

गणेश जी की आरती हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार हर शुभ कार्य से पहले गणेश जी की पूजा की जानी चाहिए  और पूजा के बाद श्री गणेश जी की आरती जरुर गाना चाहिए | || जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा || जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवाजय गणेश, जय गणेश, जय गणेश […]


आओ गजानन प्यारे

आओ गजानन प्यारे गिरजा के दुलारे (aao gajanan pyare girja ke) ॥ सब देवन में देव कहाएपूजो चरण तुम्हारे  गिरिजा के दुलारे ॥ हरी हरी दूबा तुमको चढ़ाएचंदन झूला डारे गिरिजा के दुलारे ॥ लड़ुअन को हम भोग लगाएपलक पावड़े डारे गिरिजा के दुलारे ॥ आज मनाए आसन लगाकेगा गा गीत तुम्हारे गिरिजा के दुलारे ॥ […]


एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर – जटोली शिव मंदिर [Asia’s tallest Shiva temple – Jatoli Shiva Temple]

पहाड़ की पर निर्मित बहुत ही भव्य और शानदार शिव मंदिर जो की दक्षिण-द्रविड़ शैली में बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण जनता के सहयोग से 1974 में किया गया था। जटोली…..


महादेव


एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर – जटोली शिव मंदिर [Asia’s tallest Shiva temple – Jatoli Shiva Temple]

पहाड़ की पर निर्मित बहुत ही भव्य और शानदार शिव मंदिर जो की दक्षिण-द्रविड़ शैली में बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण जनता के सहयोग से 1974 में किया गया था। जटोली…..



शिवलिंग का अर्थ और उससे जुड़ी मान्यताऐं 

जानकारी और ज्ञान के आभाव के कारण शिवलिंग को कुछ लोग पुरुष के शरीर के एक अंग से सम्बंधित कर भ्रमित करते हैं जबकि यह सच नहीं है। भारत की संस्कृति …….


हनुमान


श्री हनुमान चालीसा

-: दोहा :-
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निजमनु मुकुरु सुधारि
बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार



हनुमान जी की आरती

आरती कीजै हनुमान लला की।
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।

जाके बल से गिरिवर कांपे।
रोग दोष जाके निकट न झांके।।


श्री शनि देव

Jagannathv
शनि चालीसा

॥दोहा॥
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल ।दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल ॥ जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज ।करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज ॥

Jagannathv
शनि कवचं

अथ श्री शनिकवचम्
अस्य श्री शनैश्चरकवचस्तोत्रमंत्रस्य कश्यप ऋषिः IIअनुष्टुप् छन्दः II शनैश्चरो देवता II शीं शक्तिः II शूं कीलकम् II शनैश्चरप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः IIनिलांबरो नीलवपुः किरीटी गृध्रस्थितस्त्रासकरो धनुष्मान् II

श्री राम

Jagannathv

श्री राम चालीसा

श्री रघुवीर भक्त हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
निशिदिन ध्यान धरै जो कोई। ता सम भक्त और नहिं होई॥1॥
ध्यान धरे शिवजी मन माहीं। ब्रह्म इन्द्र पार नहिं पाहीं॥
दूत तुम्हार वीर हनुमाना। जासु प्रभाव तिहूं पुर जाना॥2॥

Jagannathv

आरती श्री राम जी

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन, हरण भवभय दारुणम्।
नव कंज लोचन, कंज मुख कर कंज पद कंजारुणम्॥
श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन
कन्दर्प अगणित अमित छवि, नव नील नीरद सुन्दरम्।
पट पीत मानहुं तड़ित रूचि-शुचि