साईं सन्देश : श्रृद्धा और सबूरी

साईबाबा #शिरडी #साईंचरण #श्रृद्धा_सबूरी

साईं सन्देश
बाबा ने हमेशा कर्म प्रधान और आडम्बरो एवम अंध विश्वास से दुर रहने के सन्देश दिये है , बाबा कहते रहे कि अपने कर्म करते रहो और अपने सद्गुरु को अर्पित कर दो , वो तुम्हारे कल्याण करेंगे।
अर्पित कर गुरु चरण मे , अहंकार को छोड़ !
सत्य स्वरूपी साईं से , अपने रिश्ते जोड़ !!

एक बार दीपावली का मंगल महोत्सव मनाया जा रहा था , बाबा श्री ने हमेंशा कि तरह लकडिया ड़ाल कर धूनी को प्रज्वल्लित किया और हाथ पांव सेंकते हुए अचानक अपने हाथ अग्नि मे ड़ाल दिये , धधकती अग्नि मे हाथ डाल जैसै वो अपने हाथ जलाना चाह रहे हो, पास ही बैठे माधवरावजी का ध्यान जैसे ही उन पर गया उन्होने एकदम से बाबा को कमर से पकड़ कर बल पूर्वक बहार खींचा और घबरा कर पूछा , देव आपने ये क्य किया , समधि भँग होते ही बाबा शान्तिः से बोले , अरे मेरे एक लुहार भक्त कि बीवी बीवी भटठी के पास बैठी थी और पति के पुकारने पर जैसे ही वह वंहा से उठी गोदी में सोया उसका छोटा बच्चा भट्टी मे गिर पड़ा। मैंने तुरंत उस बच्चे को बाहर निकाला और बचा लिया , मेरे हाथ झुलस गये इसका कोइ दुख नही पर उस नन्हे के प्राण बच गये ये बहुत ही अच्छा हुआ।

इस घटना को सुन कर बाबा के ये सन्देश कि “अपने आप को अपने साई को अर्पित कर दो” को समझ चुके होंगे, बाबा श्री कहते है तुम चाहें कंहीं भी हो जैसी तुम भक्ति करोगे उंसी भाव से मै तुम्हारी रक्षा करुँगा।

जीवन को सुन्दर और सुखी बनाने के लिये और कुछ आवश्यकता नही बस हम अपने आपको सद्गुरु साई को समर्पित कर दे , बाकि सब उसके हाथ।

पंकज उपाध्याय

Sai Sandesh: Shraddha and Saburi

Shree Sai baba always emphasized on the message of karma pramukh and adambaro and to stay away from blind faith, baba kept saying that keep doing the good work and karma and offer your Sadguru, he will do your welfare. Offer everything you have to Gurucharan and connect your relationship with Satya swaroopi Sai. Once Diwali was being celebrated, baba lit the fire and suddenly put his hand in the fire like he wanted to burn his hand. Madhavraji suddenly caught Sai Baba’s attention, he immediately grabbed baba from his waist and pulled out forcefully and asked why did you do this? Baba got distracted from samadhi baba patiently told him that his devotee’s baby fell into the furnace. I immediately took the child out and saved him, my hands are burnt that doesn’t bother me because saving him brought happiness back in my devotees life. Hearing this incident, you must have understood the message of baba that is- surrender yourself to God and do good deeds. Baba said that you can do whatever you wish, if you’re devoted I will protect you.
There is no need to make life beautiful and happy, but just surrender ourselves to Sadguru Sai, rest all is in his hands.

Pankaj Upadhyay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Select your currency
INR Indian rupee