Sai Ram Sai Shyam Sai Bhagwan | साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान

sai bhajan lyrics

(ओम साईं राम
ओम साईं श्याम
ओम साईं भगवान)
साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
करूणा के सागर दया निधान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं चरण की धूल को माथे जो लगाओगे
पुण्य चारों धाम का शिर्डी में ही पाओगे
होगा तुम्हारा वहीँ कल्याण
शिर्डी के दाता सबसे महान

sai bhajan lyrics
sai bhajan lyrics

(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
कोई शहंशाह उनको कहे
शिव कही तो रूप हैं
छाया हैं वो धर्म की
कर्म की वो धूप हैं
पढ़ते जो आये हैं वेद पुराण
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
मानवता के साईं रवि
दया के साईं चाँद हैं
साँची प्रेम डोर से रहे वो सबके बंधे हैं
मंदिर मस्जिद एक सामान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
सबको समझते वो एक सा
राजा हो या रंक हो
भेद और भाव के, मिटा रहे कलंक को
सबको समझते निज संतान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं के द्वार हर घडी
सत्य की बरखा हो रही
झूठे इस जहाँ की पाप काले धो रही
करते है सनक का समाधान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
डर रहित कशिश भरी
साईं से निर्मल प्रीत लो
दुश्मनी जो कर रहे
उनके दिल भी जीत लो
सबपे चलते प्रेम के बाण
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं हमें सीखा रहे
सबका मालिक एक है
एक सी नज़र से वो रहे सभी को देख हैं
करते न सहते जो अभिमान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं के द्वार शीश धार
दो घडी जो सो गए
नफरतों के नाग भी विश रहित हो गए
हर एक मुश्किल वो करते आसान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं के दर असर होता
हर दिली फरियाद का
बेऔलाद पा गए सुख वह औलाद का
बेजान भी वही पावे जान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)

sai bhajan lyrics
sai bhajan lyrics

दूर अँधेरा कर रही
साईं भजन की रोशनी
रोग सोग हर रही साईं नाम संजीवनी
श्रद्धा सबूरी का देते है दान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साफ़ शुद्ध होती है जिन दिलो की भावना
पूरी होती उनकी ही साईं के द्वार कामना
कष्ट मिटते, कष्ट निदान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं की धुनि से कभी तुम भभूत ले भी लो
हर बला से लड़ने की तुम दैवी शक्ति ले भी लो
जग में बढ़ाते भक्तों की शान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)

sai bhajan lyrics
sai bhajan lyrics

आस्था में भीग के साईं को जो पुकारते
साईं खिवैया बनके ही उनकी नैया तैरते
मन की दसा वो लेते है जान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
चमत्कार साईं बाबा ने जब निराले थे किये
दिव्या अनोखे पानी से जल गए थे सब दिए
पल में किया था चूर सब अभिमान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
जीन कुर्र दुष्टों ने डर दिलो में भर दिया
सीधे सादे संत ने सही मार्ग उनको दिखा दिया
दया धरम का वो देते है ज्ञान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)

sai bhajan lyrics
sai bhajan lyrics

साईं के द्वार जो झुके मैल मन का साफ़ कर
कुसूर सबके साईं ने माफ़ किये उनको अपनाकर
कहता तभी है सारा जहाँ
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
दुनिया भर की नेमते साईं जी के पास है
मांग ले जो है मांगना फिर क्यों इतना उदास है
सबको ही सुख का देंगे वरदान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
निश्चय वृक्ष को यहाँ फलते हमने देखा है
खोटे सिक्को को भी तो चलते हमने देखा है
श्रद्धा का देते सदा वरदान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
मीठी वाणी का सदा रस यहाँ से मांगिये
कीर्ति और सम्मान संग यश यहाँ से मांगिये
विनती वो लेते भक्तो की मान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं जी से योग का कुछ तो ज्ञान लीजिये
आत्मा को सत्य की कुछ खुराक दीजिये
घर बैठे पाओगे तुम भगवान्
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साई के द्वार मिल गयी जिनको साची नौकरी
साई दया से उनकी तो सात पुस्ते तर गयी
देते अलौकिक खुशियों का दान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
जिस किसी ने साई का जाप दिल से कर लिए
रहमतो से उसने ही अपने घर को भर लिया
रहने न देते दुःख का निशान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
अल्ल्हा, ईशू, सतगुरु, प्रभु के तीनो रूप हैं
तीनो को मिला बना साई का ये स्वरुप हैं
पूजा जिनकी करता जहाँ
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
दूर करलो मन से तुम पहले ये दुर्भावना
प्रीत अगर तुम्हारी सच्ची हो पूर्ण होगी कामना
छल वल लेते पहचान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साई सुधा से अंत हो पाप और संताप का
साई ने सीखा दिया गुर हैं पश्चाताप का
अज्ञानी को देते हैं ज्ञान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
निंदा द्वेष तज के जो साई सरण में आ गए
करुणा और सदभाव का आनंद वो ही पा गए
सच्चाई पे हैं कुर्बान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
प्रेम अश्रु जो बहा साई चरण को धोएगा
उसके जीवन का जहर पल में अमृत होयेगा
कांटो को करते पुष्प समान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
जिसभी देह को प्राण दे साई का लाड खाएंगे
छोड़ उसे यमराज भी खाली लौट जायेंगे
पल तेरे विघ्न का भी निदान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
जहा चढ़े इंसान ही काटते इंसान की
जरुरत हैं वहा बड़ी साई के पावन ज्ञान की
नेकी से रोके बदी का तूफान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
कहता हमको शिर्डी का कण कण ये पुकार के
साई का प्यार पाना तो बीज बोलो प्यार के
प्यार का दूजा नाम भगवान्
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
देख कर दुखियो को जिनके दिल पिघल गए
उनको दया के रूंप में साई बाबा मिल गए
सबको बुलाते वो दयावान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
धोखा जो दोगे साई को खुद ही धोखा खाओगे
लोक और परलोक में कही न बक्शे जाओगे
मैं ही नहीं ये कहता जहाँ
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साई जिनको प्यारे हैं वो दीवाने साई के
उनके लिए ही खुल गए दिव्या खजाने साई के
वो नित करते यही गुणगान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
जब कही निर्दोष मन साई को ही बुलाएँगे
छोड़ शिर्डी पल में ही साई दौड़े आएंगे
दुःख हर लेंगे दया के निधान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
करूणा के सागर दया निधान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)
(साईं राम, साईं श्याम, साईं भगवान
शिर्डी के दाता सबसे महान)

Source: Musixmatch
Songwriters: Balbir Nirdosh
sai bhajan lyrics
sai bhajan lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Select your currency
INR Indian rupee