पायो जी मैंने राम रतन धन पायो

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो | वस्तु अमोलिक दी मेरे सतगुरु | कृपा कर अपनायो || जन्म जन्म की पूंजी पाई | जग में सबी खुमायो || खर्च ना खूटे, चोर ना लूटे | दिन दिन बढ़त सवायो || सत की नाव खेवटिया सतगुरु | भवसागर तरवयो || मीरा के प्रभु गिरिधर नगर […]

Read More >>



प्रेम मुदित मन से कहो राम राम राम

प्रेम मुदित मन से कहो राम राम राम, राम राम राम, श्री राम राम राम | पाप कटें दुःख मिटें लेत राम नाम | भव समुद्र सुखद नाव एक राम नाम || परम शांति सुख निधान नित्य राम नाम | निराधार को आधार एक राम नाम || संत हृदय सदा बसत एक राम नाम | […]

Read More >>



सीता राम सीता राम सीता राम कहिये

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये | मुख में हो राम नाम राम सेवा हाथ में, तू अकेला नाहिं प्यारे राम तेरे साथ में | विधि का विधान जान हानि लाभ सहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये || किया अभिमान तो फिर मान नहीं पायेगा, होगा […]

Read More >>



ठुमक चलत रामचंद्र, बाजत पैंजनियां

ठुमक चलत रामचंद्र, बाजत पैंजनियां | किलकि किलकि उठत धाय, गिरत भूमि लटपटाय | धाय मात गोद लेत, दशरथ की रनियां || अंचल रज अंग झारि, विविध भांति सो दुलारि | तन मन धन वारि वारि, कहत मृदु बचनियां || विद्रुम से अरुण अधर, बोलत मुख मधुर मधुर | सुभग नासिका में चारु, लटकत लटकनियां […]

Read More >>