Sale!

ओम्कारेश्वर में महादेव का रुद्राअभिषेक

 6,999.00  3,400.00

ओम्कारेश्वर में महादेव का रुद्राअभिषेक

($ 45) (forty five dollars only)

Description

ओंकारेश्वर मंदिर ओंकारेश्वर, खंडवा जिला, मध्य प्रदेश

भारतवर्ष में फैले हुए 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक ओमकारेश्वर ज्योतिर्लिंगों।ओमकारेश्वर ज्योतिर्लिंगों चारों तरफ से नर्मदा के जल से घीरे दिव्प पर स्थित है और यह दिव्प का आकार ॐ जैसा है।

पौराणिक कथा अनुसार विंध्याचल पर्वत श्रृंखला के देवता विंध्य अपने पापों से मुक्ति लिये शिवजी की आराधन कर रहे थे। उन्होंने पूजा के लिए यह रेखा-चित्र और रेत मिटटी से शिव लिंग बनाया। शिव जी उनकी पूजा से काफी प्रसन्न हुऐ और दो रूपों ओंकारेश्वर और अमलेश्वर में प्रकट हुऐ। रेत मिटटी से बना लिंग ओम के सामान दिखता था इसलिए उस द्विप को ओंकारेश्वर के नाम से जाना जाने लगा। ओंकारेश्वर द्विप पवित्र नदी नर्मदा के बिच बना हुआ है और यहाँ के शिव मंदिर में माता पार्वती और पंच मुखी गणपति जी की भी मूर्तियाँ देखि जा सकती हैं।
एक और कहानी के अनुसार इक्ष्वाकु वंश अर्थार्थ भगवान राम में वंश के राजा मान्धाता ने यहाँ शिव जी की पूजा की और उनसे प्रसन्न हो कर शिव जी स्वयं ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुऐ और इसलिए पहाड़ का नाम मंधाता पड़ा।
ओंकारेश्वर को वह स्थान भी कहा जाता है जहाँ श्री आदि शंकराचार्य अपने गुरु गोविंदपाद से एक गुफा में मिले थे। यह गुफा आज भी ओंकारेश्वर शिव मंदिर के ठीक नीचे है और यहाँ आदि शंकराचार्य की प्रतिमा स्थापित की गई है।
ओंकारेश्वर में भगवान शिव के दो मुख्य मंदिर हैं, एक ओंकारेश्वर जो की ओंकारेश्वर द्वीप पर मान्धाता पहाड़ पर स्थित है और एक अमरेश्वर जो की की मुख्य भूमि पर नर्मदा नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है।

Omkareshwar Temple, Omkareshwar, Khandwa district, Madhya Pradesh

According to legend, God of Vindhya mountain range God Vindhya was worshiping Shiva to get rid of his sins. He made this digram for worship and Shiva Ling from sand soil. Shiva ji was very pleased with his worship and appeared in two forms Omkareshwar and Amaleshwar. Ling made of sand and soil looked like Om, so that island was known as Omkareshwar. Omkareshwar island is situated between the holy river Narmada and in n the Shiva temple idols of Mata Parvati and Punch Mukhi Ganapati ji can be seen.
According to another story, King Mandhata of Ikshwaku dynasty, dynasty of Lord Rama, worshiped Shiva here. Pleased with them, Shiva himself appeared in the form of Jyotirlinga and hence the name of the mountain became Mandhata
Omkareshwar is also called the place where Shri Adi Shankaracharya met his Guru Govindapad in a cave. This cave is still right down to the temple of Omkareshwar and here the statue of Adi Shankaracharya has been established.
There are two main temples of Lord Shiva in Omkareshwar, one Omkareshwar, which is situated on Omnameswar Island on the Mandhata mountain and an Amareshwar is situated on the main land on the southern bank of river Narmada.

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “ओम्कारेश्वर में महादेव का रुद्राअभिषेक”

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Select your currency
INR Indian rupee