Sale!

अमावस्या पर भोजन वितरण

 501.00  205.00

  • अमावस्या पर भोजन वितरण
  • $ 3 (Three dollars only)

Description

हिन्दु पञ्चांग में अमावस्या का दिन वो दिन होता है जिस दिन चंद्रमा को नहीं देखा जा सकता है। चंद्रमा 28 दिनों में पृथ्वी का एक चक्कर पूर्ण करता है। 15 दिनों के चंद्रमा पृथ्वी की दूसरी ओर होता है और भारतवर्ष से उसको नहीं देखा जा सकता है। वही जिस दिन, जब चंद्रमा पुर्ण रूप से भारतवर्ष नहीं देखा जा सकता है उसे अमावस्या का दिन कहा जाता है। अमावस्या को हिन्दु शास्त्रों में काफी महत्वपुर्ण स्थान प्राप्त है और इसके अनुसार अमावस्या को पित्रों अर्थार्थ गुज़र गए पूर्वजों का दिन भी मन जाता है। ऐसा कहा जाता है की अमावस्या के दिन स्नान कर प्रभुः का ध्यान करना चाहिये, बुरे व्यसनों से दूर रहना चाहिए और हो सके तो गरीब, बेसहारा और जरूतमंद बुज़ुर्गों को भोजन करना चाहिये। जैसा की पहले बताया गया है अमावस्या को पित्रों का दिन कहा गया है तो इस दिन किसी को भोजन करने से हम एक तरह से अपने पित्रों को भोजन अर्पित कर रहे हैं। ऐसा करने से पितृ दोष से मुक्ति मिलती है।
श्री घुमतेगणेश के आशीर्वाद से माह में एक बार अमावस्या पर जरूतमंदों के लिए भोजन वितरण का कार्य किया जाता है।

जो कोई भी इसका हिस्सा बनना चाहता है वह अपना योगदान दे सकते है और जरूरतमंदों की मदद कर सकते हैं।

Amavasya in Hindu Panchang is the day on which the moon cannot be seen it’s called dark moon lunar phase. The Moon completes one round of the Earth in 28 days. The 15-day moon is on the other side of the Earth and cannot be seen from India. The same day, when the moon cannot be seen in full form Bharatvarsha is called Amavasya day. Amavasya has a very important place in Hindu scriptures and according to this, Amavasya is also considered as the day of ancestors who passed away in Hindu religion these ancestors are called Pitr.
It is said that after bathing on the no moon day one should meditate Lord, stay away from bad addictions and if possible donate or feed food to poor, destitute and needy elderly people. As mentioned earlier, Amavasya has been called the day of ancestors, so by feeding someone on this day, we are in a way offering food to our ancestors. By feeding the needy one gets freedom from Pitra dosha.
With the blessings of Shri Ghumateganesh, once a month, food distribution is done to the needy people on Amavasya. Anybody who wishes to be part of this can contribute by donating and needy will be feed by the contribution.

अमावस्या पर फल वितरण

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “अमावस्या पर भोजन वितरण”

Your email address will not be published. Required fields are marked *



Select your currency
INR Indian rupee