• निमंत्रण

    आमंत्रण

    आमंत्रण घूमते गणेश आयोजन में मंगलमूर्ति श्रीगणेश को आमंत्रित करने के लिए यजमान को शहर के बंधू बांधवो…

  • mandir

    घूमते गणेश का मंदिर

    मंदिर घूमते गणेश के इस आयोजन में विघ्नहर्ता मंगलमूर्ति के भव्य मंदिर का भी निर्माण किया जायेगा। गणेश…

  • आयोजन

    आयोजन

    आयोजन घूमते गणेश आयोजन में मंगलमूर्ति श्रीगणेश को आमंत्रित करने के लिए यजमान को शहर के बंधू बांधवो क…

  • कहाँ कहाँ जायेंगे

    कहाँ कहाँ जायेंगे

    कहाँ कहाँ जायेंगे कहाँ कहाँ जायेंगे घूमते गणेश आयोजन के तहत मंगलमूर्ति गणराज अपने भक्तों के आमंत्रण …

  • ghumteganesh-kya-hai

    घूमतेगणेश क्या है

    घूमते गणेश क्या है समस्त विघ्न बाधाओं को हरने और घर में मंगल कार्यो को संपन्न करने के रिद्धि- सिद्धि…

Recent Posts

Narmada Chalisa

Narmada Chalisa

Narmada Chalisa . doha. devi poojit, narmada, mahima badee apaar.chaaleesa varnan karat, kavi aru bhakt udaar.inakee seva se sada, mitate paap mahaan.tat par kar jap daan nar, paate hain nit gyaan . . chaupaee . jay-jay-jay narmada bhavaanee, tumharee mahima sab jag jaanee.amarakanth se nikalee maata, sarv siddhi nav nidhi kee daata. kanya roop sakal gun khaanee, jab prakateen narmada …

Read More »

Shri Narmada chalisa

श्री नर्मदा चालीसा ॥ दोह॥ देवि पूजित, नर्मदा, महिमा बड़ी अपार।चालीसा वर्णन करत, कवि अरु भक्त उदार॥इनकी सेवा से सदा, मिटते पाप महान।तट पर कर जप दान नर, पाते हैं नित ज्ञान ॥ ॥ चौपाई ॥ जय-जय-जय नर्मदा भवानी, तुम्हरी महिमा सब जग जानी।अमरकण्ठ से निकली माता, सर्व सिद्धि नव निधि की दाता। कन्या रूप सकल गुण खानी, जब प्रकटीं …

Read More »

Lingashtakam Stotram

Lingashtakam Stotram ब्रह्ममुरारि सुरार्चित लिङ्गं निर्मलभासित शोभित लिङ्गम् ।जन्मज दुःख विनाशक लिङ्गं तत्-प्रणमामि सदाशिव लिङ्गम् ॥ 1 ॥ देवमुनि प्रवरार्चित लिङ्गं कामदहन करुणाकर लिङ्गम् । रावण दर्प विनाशन लिङ्गं तत्-प्रणमामि सदाशिव लिङ्गम् ॥ 2 ॥  सर्व सुगन्ध सुलेपित लिङ्गं बुद्धि विवर्धन कारण लिङ्गम् । सिद्ध सुरासुर वन्दित लिङ्गं तत्-प्रणमामि सदाशिव लिङ्गम् ॥ 3 ॥  कनक महामणि भूषित लिङ्गं फणिपति वेष्टित शोभित लिङ्गम् …

Read More »

Khatu Shyam Chalisa

Khatu Shyam Chalisa

Khatu Shyam Chalisa || Doha || shree guru charan dhyaan dhar, sumiri sachchidaanand. shyaam chaaleesa bhajat hoon, rach chaipaee chhand.. ||chaupaee|| shyaam shyaam bhaji baarambaara, sahaj hee ho bhavasaagar paara. in sam dev na dooja koee, deen dayaalu na daata hoee. bheemasuputr ahilavatee jaaya, kaheen bheem ka pautr kahaaya. yah sab katha sahee kalpaantar, tanik na maanon inamen antar. barbareek …

Read More »

Khatu shyam chalisa

Khatu shyam chalisa ||दोहा|| श्री गुरु चरण ध्यान धर, सुमिरि सच्चिदानन्द।श्याम चालीसा भजत हूँ, रच चैपाई छन्द।। ||चौपाई|| Khatu shyam chalisa श्याम श्याम भजि बारम्बारा, सहज ही हो भवसागर पारा।इन सम देव न दूजा कोई, दीन दयालु न दाता होई। भीमसुपुत्र अहिलवती जाया, कहीं भीम का पौत्र कहाया।यह सब कथा सही कल्पान्तर, तनिक न मानों इनमें अन्तर। बर्बरीक विष्णु अवतारा, …

Read More »

Ram Chalisa Lyrics

Ram Chalisa Lyrics

Ram Chalisa Lyrics Shri Raghubir bhagat hitkari, suni lije prabhu araj hamari,Nisidin dhyan dhare jo koi, ta sam bhakt aur nahi hoi, Dhyan dhare shivji man mahi, brahma indra par nahi pahi,Jai jai jai raghunath kripala, sada karo santan pratipala. Doot tumhar veer hanumana, jasu prabhav tihu pur jana,Tuv bhujdand prachand kripala, ravan mari suarn pratipala, Tum anath ke nath …

Read More »

राम चालीसा

राम चालीसा

Shree Ram chalisa ॥चौपाई॥ श्री रघुवीर भक्त हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥निशिदिन ध्यान धरै जो कोई। ता सम भक्त और नहिं होई॥1॥ ध्यान धरे शिवजी मन माहीं। ब्रह्म इन्द्र पार नहिं पाहीं॥दूत तुम्हार वीर हनुमाना। जासु प्रभाव तिहूं पुर जाना॥2॥ तब भुज दण्ड प्रचण्ड कृपाला। रावण मारि सुरन प्रतिपाला॥तुम अनाथ के नाथ गुंसाई। दीनन के हो सदा सहाई॥3॥ ब्रह्मादिक …

Read More »

शंकर जी का डमरू बाजे पार्वती का नंदन नाचे,

शंकर जी का डमरू बाजे पार्वती का नंदन नाचे,

शंकर जी का डमरू बाजे पार्वती का नंदन नाचे,बर्फीले कैलाशिखर पर जय गणेश की धूम,ओ जय हो… शंकर जी का डमरू बाजे पार्वती का नंदन नाचे,बर्फीले कैलाशशिखर पर जय गणेश की धूम,नाचे धिन धिन, नाचे धिन धिन, धिन्तक धिन्तक नाचे मनमोहक, मनभावन, नटखट मूषक गण भागे सरपट,विघ्न विनायक, संकट मोचन वक्रतुंड कजरारे लोचन,झूमे गए बल गणेश भक्तजनो की कटे कलेश,नाचे …

Read More »

शिव षडक्षार स्तोत्र

शिव षडक्षार स्तोत्र

शिव षडक्षर स्तोत्रम् ॐकारं बिंदुसंयुक्तं नित्यं ध्यायंति योगिनः ।कामदं मोक्षदं चैव ॐकाराय नमो नमः ॥१॥ नमंति ऋषयो देवा नमन्त्यप्सरसां गणाः ।नरा नमंति देवेशं नकाराय नमो नमः ॥२॥ महादेवं महात्मानं महाध्यानं परायणम् ।महापापहरं देवं मकाराय नमो नमः ॥३॥ शिवं शांतं जगन्नाथं लोकानुग्रहकारकम् ।शिवमेकपदं नित्यं शिकाराय नमो नमः ॥४॥ वाहनं वृषभो यस्य वासुकिः कंठभूषणम् ।वामे शक्तिधरं देवं वकाराय नमो नमः ॥५॥ यत्र …

Read More »

Shivashtak

Shivashtak

Shivashtak जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे,जय कैलाशी, जय अविनाशी, सुखराशि, सुख-सार हरेजय शशि-शेखर, जय डमरू-धर जय-जय प्रेमागार हरे,जय त्रिपुरारी, जय मदहारी, अमित अनन्त अपार हरे, निर्गुण जय जय, सगुण अनामय, निराकार साकार हरे।पार्वती पति हर-हर शम्भो, पाहि पाहि दातार हरे॥ जय रामेश्वर, जय नागेश्वर वैद्यनाथ, केदार हरे,मल्लिकार्जुन, सोमनाथ, जय, महाकाल ओंकार हरे,त्र्यम्बकेश्वर, जय घुश्मेश्वर भीमेश्वर जगतार हरे,काशी-पति, श्री …

Read More »

श्री गणपति अथर्वशीर्ष

श्री गणपति अथर्वशीर्ष

Shri ganpati Atharvshirsh Shri ganpati Atharvshirsh गणेशजी की आराधना बहुत मंगलकारी मानी जाती है। उनके ‍भक्त विभिन्न प्रकार से उनकी आराधना करते हैं। अनेक श्लोक, स्तोत्र, जाप द्वारा गणेशजी को मनाया जाता है। इनमें से गणपति अथर्वशीर्ष का पाठ विशेष कल्याणकारी है। प्रतिदिन प्रात:शुद्ध होकर इस पाठ करने से गणेशजी की कृपा अवश्य प्राप्त होती है। ॐ नमस्ते गणपतये |त्वमेव …

Read More »

श्री गणेश कवचम्

श्री गणेश कवचम्

shri Ganesh kavacham श्री गणेश कवचम् || गौर्युवाच || एषोति चपलो दैत्यान्बाल्येऽपि नाशयत्यहो |अग्रे किं कर्म कर्तेति न जाने मुनिसत्तम || १ || दैत्या नानाविधा दुष्टाः साधुदेवद्रुहः खलाः |अतोऽस्य कण्ठे किंचित्त्वं रक्षार्थं बद्धुमर्हसि || २ || || मुनिरुवाच || ध्यायेत्सिंहहतं विनायकममुं दिग्बाहुमाद्ये युगेत्रेतायां तु मयूरवाहनममुं षड्बाहुकं सिद्धिदम् |द्वापारे तु गजाननं युगभुजं रक्ताङ्गरागं विभुम्तुर्ये तु द्विभुजं सिताङ्गरुचिरं सर्वार्थदं सर्वदा || ३ …

Read More »

श्री गणेश पंचरत्न स्तोत्र

 श्री गणेश पंचरत्न स्तोत्र मुदा करात्तमोदकं सदा विमुक्तिसाधकम् कलाधरावतंसकं विलासलोक रक्षकम् | अनायकैक नायकं विनाशितेभ दैत्यकम् नताशुभाशु नाशकं नमामि तं विनायकम् || 1 || नतेतराति भीकरं नवोदितार्क भास्वरम् नमत्सुरारि निर्जरं नताधिकापदुद्धरम् | सुरेश्वरं निधीश्वरं गजेश्वरं गणेश्वरम् महेश्वरं तमाश्रये परात्परं निरन्तरम् || 2 || समस्तलोकशङ्करं निरस्तदैत्यकुंजरं दरेतरोदरं वरं वरेभवक्त्रमक्षरम् | कृपाकरं क्षमाकरं मुदाकरं यशस्करं मनस्करं नमस्कृतां नमस्करोमि भास्वरम् || 3 || …

Read More »

Shri ganesh pratik hai शक्ति, सुरक्षा और बुद्धि……

श्री गणेश प्रतीक है श्री गणेश प्रतीक है – देवी देवता उनके चिन्हों, रंगों, हाव-भाव, वस्त्रों, आस पास की वस्तुओँ का गहरा महत्त्व होता है और सभी वस्तुएँ किसी न किसी चीज़ का प्रतिनिधित्व करती हैं।श्री गणेश प्रतीक है शक्ति, सुरक्षा और बुद्धि को दर्शाते हैं और उनका सारा प्रतीकवाद हमें जीवन की भौतिक और सूक्ष्म बाधाओं से सुरक्षित रखने …

Read More »

श्री गणेश वंदना

श्री गणेश वंदना || श्री गणेश वंदना || गजाननं भूतगणाधिसेवितं कपित्थजम्बूफलचारुभक्षणम् |उमासुतं शोकविनाशकारकम् नमामि विघ्नेश्वरपादपङ्कजम् ||   श्री गणेश वंदना ||श्री गणेश वंदना का अर्थ || मै गजानन (जिनका हाती के सामान मुख है )को नमन करता हु जिनकी बहुत आदि गण सेवा करते है जो कैपिट और जम्बू फल के सर को खाते है. देवीं उमा (पार्वती)पुत्र है और जो जीवन …

Read More »