Chidambaram Temple | शिव का सबसे बड़ा मंदिर, चिदंबरम नटराज मंदिर | Shiva's largest temple, Chidambaram Natraj Mandir | ganesh

शिव का सबसे बड़ा मंदिर, चिदंबरम नटराज मंदिर
Shiva’s largest temple, Chidambaram Natraj Mandir

Chidambaram Temple


शिव का सबसे बड़ा मंदिर, चिदंबरम नटराज मंदिर
Shiva’s largest temple, nataraja temple chidambaram

Chidambaram Temple Chidambaram Temple

Chidambaram Temple | Nataraja temple chidambaram

शिव का सबसे बड़ा मंदिर, चिदंबरम नटराज मंदिर – जिला कुड्डालोर तमिलनाडु

शिवजी का सबसे बड़ा मंदिर चिदंबरम नटराज मंदिर, तमिलनाडु के कुड्डालोर जिले में स्थित है। यह मंदिर ४० एकड़ में फैला हुआ है। चोल राजाओं द्वारा १० वीं शताब्दी में मंदिर का निर्माण करवाया गया, उस समय चिदंबरम चोल वंश की राजधानी हुवा करती थी।

चोल वंश नटराज को अपना पारिवारिक देवता मानते थे और इसलिए नटराज मंदिर का निर्माण करवाया गया था। यह मंदिर दक्षिण भारत के प्राचीनतम जिवित मंदिरों में से एक है और आज भी मंदिर का वैभव देखते ही बनता है।

अधिकांश मंदिर भवन उसकी वास्तुकला और संरचना १२ वीं सदी के अंत और १३ वीं शताब्दी की शुरुआत की है, और काफी बाद तक भी इसी तरह की शैली में नए निर्माण मंदिर रहे हैं।

शिव के नटराज रूप को चिदंबरम नटराज मंदिर में दर्शाया गया है पर साथ ही श्रद्धा से शक्तिवाद, वैष्णववाद और हिंदू धर्म की अन्य परंपराओं के प्रमुख विषयों को भी मंदिर में प्रस्तुत किया गया है।

मंदिर की दीवारें सूंदर नक्काशी से सुसज्जित हैं जिनमे की भरत मुनि द्वारा नाट्य शास्त्र के सभी १०८ कारणों को देखा जा सकता है, ये वो मुद्राएँ हैं जो की शास्त्रीय भारतीय नृत्य भरतनाट्यम की नींव बनाती हैं। चिदंबरम शब्द का अर्थ है “ज्ञान का वातावरण” या “विचारों में रँगा हुआ” और यह शहर और मंदिर दोनों के लिए ही एक सामान है।

मंदिर वास्तुकला कला और आध्यात्मिकता, रचनात्मक गतिविधि और परमात्मा के बीच संबंध का प्रतीक है। चिदंबरम नटराज मंदिर को शिव भक्त पांच प्राथमिक लिंगों में से मानते हैं, और हिंदू धर्म के सभी शिव मंदिरों के बीच उच्च स्थान प्राप्त है।

Shiva’s largest temple, Chidambaram Natraj Mandir – District Cuddalore Tamil Nadu

Chidambaram Natraj Temple, Shivaji’s largest temple, is located in the Cuddalore district of Tamil Nadu. This temple is spread over 40 acres. The temple was built in the 10th century by the Chola kings, at that time Chidambaram used to be the capital of the Chol dynasty.

The Chola dynasty used to consider Natraj as his family deity and therefore the Natraj Temple was constructed. This temple is one of the oldest living temples of South India and glory of the temple is still intact.

Most of the temple building its architecture and structure that we see today were build in the 12th century and the beginning of the 13th century, addition and all new construction in temples afterwords has been done in same style as well.

form of Shiva is depicted in Chidambaram Natraj Mandir but with the reverence, the main subjects of Shaktism, Vaishnavism and other traditions of Hinduism have also been presented in the temple.

The walls of the temple are equipped with fine carvings, in which all 108 postures created by Bharat Muni can be seen which form the foundation of the classical Indian dance Bharatanatyam. The word Chidambaram means “an atmosphere of knowledge” or “engraved in thoughts” and it is the same for both city and temple.

Temple architecture is a symbol of the relationship between art and spirituality, creative activity and divine. Shiva devotee considers Chidambaram Natraj Mandir as one of the five primary Linga, and this temple holds the highest place among all Shiva temples of Hinduism.

Nataraja Temple Chidambaram

|| श्री गणेश | Shree Ganesha ||

|| महादेव | Mahadeva ||

|| हनुमान | Hanuman ||

|| ज्योतिर्लिंग | Jyothirling ||

|| भगवान राम ||

|| भगवान शिव ||

|| माँ दुर्गा ||

|| ३१ गणेश भजन||

|| ४२ आरती संग्रह ||

|| नवग्रह मंत्र ||

|| नवग्रह कवच ||

|| टोटके ||

|| Ganesh ||

|| भगवान शनि देव ||

|| राशिफल 2019 ||

|| आरती ||

|| भगवान के सात दिन ||
|| Seven days of God ||


अपने शहर के प्रसिद्ध गणेश मंदिर के बारे में जानकारी शेयर करे

Share information about the famous Ganesh temple of your city

Learn More >>