खजराना गणेश मंदिर इंदौर का इतिहास और जानकारी।

Khajrana Ganesh Temple

मध्य प्रदेश के प्रमुख शहरो में से एक, इंदौर एक खूबसूरत शहर है जो हरे-भरे हरियाली से घिरा हुआ है और देश में एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। स्वचता के लिए इंदौर शहर देश में नबर १ पर है। इंदौर शहर आकर्षक झीलों, आरामदायक झरनों, सुंदर बगीचों, राजसी महलों और सदियों पुराने मंदिरों का घर है। इसलिए, यह हर साल लाखों में पर्यटक आते है ।

इंदौर में खजराना गणेश मंदिर (Khajrana Ganesh Templeइन में से एक है। यह अपने ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के लिए जाना जाता है। इसलिए, यह हिंदू भक्तों के साथ-साथ पर्यटकों द्वारा दौरा किया जाता है। खजराना गणेश मंदिर ( Khajrana Ganesh Temple ) राज्य के सबसे अमीर मंदिरों में से एक है।

famous ganesh temple in indore

Khajrana Ganesh Temple
Khajrana Ganesh Temple

इतिहास

खजराना गणेश मंदिर ( Khajrana Ganesh Temple का इतिहास और इससे जुड़ी धार्मिक मान्यतावो की वजह से यह मंदिर इंदौर शहर के सबसे मशहूर मंदिरों में से एक है| इस मंदिर का निर्माण 1735 में होलकर राजवंश की महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था।

भक्त मंदिर ( Khajrana Ganesh Temple ) के चारों ओर चक्कर लगाते हैं और अपने काम को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए भगवान गणेश से प्रार्थना करते हैं। कहा जाता है कि मंदिर में प्राचीन मूर्ति एक स्थानीय पुजारी, पंडित मंगल भट्ट के सपनों में देखी गई थी।

ब्राह्मण के जागने के तुरंत बाद, उन्होंने रानी अहिल्या बाई होल्कर को अपना पूरा सपना सुनाया। बाद में, अहिल्याबाई होल्कर ने जमीन के नीचे से मूर्ति की खुदाई की और उसे एक मंदिर में स्थापित किया।

जहां से मूर्ति को बचाया गया था, वहां एक कुआं है, जो मंदिर के ठीक सामने है।
स्थानीय लोगों को विशेष रूप से मंदिर और यहां से प्राप्त होने वाले आशीर्वादों में बहुत विश्वास है; एक तरह से यह किसी भी यात्री की सूची में प्राथमिकता बनाता है।

यह माना जाता है कि मंदिर मूल रूप से अहिल्या बाई होल्कर द्वारा बनाया गया था और बाद में विभिन्न ऐतिहासिक हस्तियों द्वारा कुछ परिष्करण स्पर्श के अधीन किया गया था। कई धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, यह कहा जाता है कि जो भी यहां आता है और किसी चीज की कामना करता है, वह इच्छा कुछ ही समय में पूरी हो जाती है।

Khajrana Ganesh Temple

खजराना गणेश मंदिर के बारे में कुछ खास बाते

ऐसा माना जाता है कि जो भी खजराना गणेश मंदिर में जाता है और पूरी श्रद्धा के साथ भगवान गणेश की पूजा करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इसलिए, हर दिन, यह सैकड़ों स्थानीय लोगों और पर्यटकों द्वारा अक्सर विजिट किया जाता है जो यहां प्रार्थना करते हैं और बदले में एक समृद्ध और आनंदित जीवन के लिए आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। एक और बात जो इस मंदिर को क्षेत्र के अन्य धार्मिक स्थलों से अलग करती है, वह इसकी शांतिपूर्ण और दिव्य वातावरण है। हां, मंदिर की सीमाओं के भीतर, आप भगवान और शांति का सार महसूस कर सकते हैं। भले ही मंदिर भगवान गणेश को समर्पित है, आप भगवान राम और देवी सीता सहित अन्य हिंदू देवताओं की कई मूर्तियां पा सकते हैं।

बुधवार का है विशेष महत्व

इंदौर के खजराना मंदिर में वैसे तो रोज पूजा और आरती होती है, लेकिन बुधवार का दिन यहां के लिए खास होता है। उस दिन यहां विशेष पूजा और आरती आयोजित की जाती है। इसमें शामिल होने बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं आते हैं।

खजराना गणेश मंदिर खोलने का समय

khajrana ganesh mandir live darshan

सप्ताह के सभी दिन सुबह 5:00 बजे- दोपहर 12:00 बजे और  शाम 4:00 बजे- 8:00 बजे

Khajrana Ganesh Temple
Khajrana Ganesh Temple

मन्नत के तौर गणेश की मूर्ति में बनाते हैं स्वस्तिक का उल्टा निशान

इस मंदिर को लेकर एक मान्यता है। इसके अनुसार अगर आपकी कोई मान्यता है तो भगवान गणेश की प्रतिमा की पीठ पर उल्टा स्वस्तिक बनाने से मन्नत पूरी होती है। मन्नत पूरी होने के बाद श्रद्धालु यहां दोबारा आकर सीधा स्वस्तिक बनाते हैं। साथ ही लड्डुओं का भोग लगाते है।

इस मंदिर में मन्नत को लेकर एक और मान्यता हैं। इसके अनुसार भक्त इस मंदिर के तीन परिक्रमा लगाते है। साथ ही मंदिर की दीवार पर धागा बांधते है।

इस मंदिर के साथ ही आसपास 33 मंदिर और

इसके साथ-साथ यहां भगवान शिव और मां दुर्गा के मंदिर सहित छोटे-बड़े कुल 33 मंदिर हैं, जो अनेक देवी-देवताओ को समर्पित है। मंदिर परिसर में पीपल का एक प्राचीन पेड़ है, जिसके बारे में माना जाता है कि आप यहां पर जो भी मन्नत मांगोगे। वह पूरी होगी।

One thought on “खजराना गणेश मंदिर इंदौर का इतिहास और जानकारी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Select your currency
INR Indian rupee