Ganesha names in each era | ghumteganesh.com | [ 4 era ganesh avatars]

Ganesha names in each era


Ganesha names in each era | किस युग में गणेश क्या कहलाये..

Ganesha names in each era
किस युग में गणेश क्या कहलाये..

हर युग में गणपति धरती पर पधारें हैं। हर युग की आवश्यकताओं के आधार पर, श्री गणपति के जो अवतार हुए हैं, वे हैं-
क्रतयुग (सत्ययुग)
महोक्तक विनायक जो की ऋषि कश्यप और उनकी पत्नी अदिति से में पैदा हुए थे। श्री गणेश के इस अवतार ने दो राक्षसों, देवंतक और नरंतक को मारकर धर्म की रक्षा की और फिर अवतार समाप्त कर दिया।
त्रेतायुग
में गणेश के रूप में उमा से श्री गणपति का जन्म भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी के दिन हुआ। इस अवतार में, उन्होंने राक्षस सिंधु को मारा और देवता ब्रह्मा की बेटियों सिद्धि और बुद्ध से शादी की।
द्वापरयुग
में जन्मे श्री गणेश गजानन कहलाए एक बार फिर उनका जन्म देवी पार्वती से हुआ। इस अवतार में, श्री गजानन ने राक्षस सिन्दुरसुर को मार डाला और कई राजाओं और वीर पुरुषों को राक्षसों की कैद से मुक्ति दिलवाई । श्री गणेश ने श्री गजानन के अवतार में वरेण्या नमक राजा को गणेशगीता के उपदेश दिये। जो की जो मोक्ष के मार्ग के बारे में बताता है, सभी अलौकिक शक्तियों को देता है, अज्ञानता को समाप्त करता है और मानव जीवन के सही लक्ष्य को स्पष्ट करता है ।
कलियुग
भाव्यपुराण के अनुसार, धूम्रकेतु या धुमरावण नाम से श्री गणपति का चौथा अवतार कलियुग में जन्म लेगा और असुरों का नाश करेगा।

Ganesha names in each era..

In every era, Ganapati comes on earth. Based on the requirements of every era, the incarnations of Shri Ganapati have been –
Kratyuga (Satyayuga)
Mahakatak Vinayak who was born between Rishi Kashyap and his wife Aditi This incarnation of Shri Ganesh protected the religion by killing two monsters, Devantak and Narantak and then finished the avatar.
In Tretayuga
Gunesh was born from Uma on the day of Bhadrapad Shukla Chaturthi. In this incarnation, Ganesh killed the demon sindhu and married the gods of Brahma, Siddhi and Buddhi.
Dwaparug
Shri Ganesh was called Ganjanan in this era, he was born from Goddess Parvati. In this incarnation, Shri Gajanan killed Demon Sindurasur and saved many kings and heroic men from the captivity of demons. Shri Ganesh gave the teachings of Ganeshita to King Vrayna in this incarnation. Ganeshgita tells us about the path of salvation, gives to all supernatural powers, eliminates ignorance and clarifies the true goal of human life.
Kaliyuga
According to Bhavya Purana, the fourth incarnation of Lord Ganapati in the name of Dhumraketu or Dhumaravan will be born in Kaliyug and will destroy the asuras.



|| भगवान राम ||

|| भगवान शिव ||

|| माँ दुर्गा ||

|| श्री हनुमान ||

|| नवग्रह मंत्र ||

|| नवग्रह कवच ||

|| टोटके ||

|| Ganesh ||


|| भगवान शनि देव ||

|| राशिफल 2019 ||

|| आरती ||

|| भगवान के सात दिन ||
|| Seven days of God ||