गणेश-चतुर्थी-क्यों-मनाई-जाती-है

गणेश चतुर्थी क्यों मनाई जाती है?

Ganesh Chaturthi kyu manaya jata hai?

पुरे विश्व में गणेश चतुर्थी को बड़े हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है और सभी गणेश भक्त 10 दिनों तक गणपति की बड़ी सेवा करते हैं। श्री गणेश, महादेव और पार्वती के छोटे पुत्र हैं और गणेश चतुर्थी गणपति के जन्म और उनके सम्मान में मनायी जाती है।

गणपति जी का जन्म भाद्रप्रद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को दोपहर 12 बजे हुआ था और इसलिए चतुर्थी तिथि इनकी प्रिय तिथि है। हर वर्ष भाद्र माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को श्री गणेश के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है और इसी दिन से 10 दिनों तक चलने वाले उत्सव गणेश चतुर्थी की शुरुआत होती है। 

गणपति जी को १००८ से भी ज़्यादा अलग अलग नमो से (https://ghumteganesh.com/1008-names-ganesha/) जाना जाता है और उन्हें कला, विज्ञान, ज्ञान, समृद्धि, बुद्विमत्ता और वैभव कहा जाता है। भगवान गणेश को प्रथम पुज्य का स्थान प्राप्त है। गणेश उस देवता के रूप में माना जाता है, जिसे किसी अन्य देवता के प्रति अपना सम्मान देने या किसी भी अच्छे काम की शुरुआत करने से पहले पूजा करनी चाहिए। 

Ganesh Chaturthi kyu manaya jata hai?
Ganesh

ganesh chaturthi kyo manai jati hai

गणेश के जन्म से जुड़ी अलग-अलग कहानियां हैं। क्रोध में भगवान शिव ने गणेश के सिर को काट दिया, जिससे वह तुरंत मर गए। जब पार्वती को इस बात का पता चला, तो वह इतनी क्रोधित हुई और अपमानित हुई कि उन्होंने पूरी सृष्टि को नष्ट करने का फैसला किया।

तब भगवान ब्रह्मा, ने पारवती जी से निवेदन किया कि वह अपनी कठोर योजना पर पुनर्विचार करें। पार्वती जी ने कहा कि वह पुनर्विचार करेगी, लेकिन तभी जब उनकी दो शर्तें पूरी होंगी। 

एक – गणेश को जीवन में वापस लाया जाए, और दो – वह अन्य सभी देवताओं से पहले हमेशा गणेश को पूजा जाए। इस समय तक शिव शांत हो गए, और अपनी गलती का एहसास करते हुए, वे पार्वती की शर्तों पर सहमत हुए। शिव ने ब्रह्मा को आदेश दिया कि उन्हें पहला प्राणी उतर दिशा की ओर जाता हुआ मिले उसका सिर काट कर ले आयें।

ब्रह्मा जल्द ही एक मजबूत और शक्तिशाली हाथी के सिर के साथ लौटे, जिसे शिव ने गणेश के शरीर पर रखा।शरीर में नई जान फूंकते हुए, उन्होंने गणेश को अपना पुत्र भी घोषित किया, और उन्हें देवताओं में सबसे अग्रणी होने का दर्जा दिया, और सभी गणों के नेता, गणपति को बना दिया ।

दूसरी पौराणिक कथा के अनुसार श्री गणेश को महादेव और पार्वती ने देवताओं के अनुरोध पर बनाया था ताकि को किसी भी शुभ कार्य में आने वाली सारी समस्याओं और विघ्नो का नाश करें।इसी कारण गणपती जी को ‘विघ्न -हर्ता’ भी कहा जाता है और किसी भी शुभ कार्य को करने के पहले हम श्री गणेश से निवेदन करते है की वे हमे आशीर्वाद दें हमारे कार्य को सफल बनायें। 

जय गणेश 
हर घर गणेश, घर घर गणेश 

Check Also

श्री-गणेश-का-इंसान-के-मुख-वाला-एकमात्र-मंदिर

श्री गणेश का इंसान के मुख वाला एकमात्र मंदिर

श्री गणेश का इंसान के मुख वाला एकमात्र मंदिर तमिलनाडु के तिलतर्पण (कूटनूर) में स्थित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *