शिवा ब्लॉग 1

भगवान शिव किसके पुत्र है?

भगवान शिव किसके पुत्र है

शिव का अर्थ है ई+शव=ईश्वर निराकार ओर शव साकार। यदि ई शब्द हटा दे तो केवल शव बचता है ओर तत्वों में मिल जाता है। इसलिए हर जीव साकार में आत्मा रुपी ईश्वर रहता है जो शव को चलाए हुए हैं। इसी भेद का नाम शिव है। जो सब शरीरों में रम रहा है। अब आते हैं प्रलय यानी डमरू …

Read More »

Shri shiv Parvati stuti

Shri shiv Parvati stuti

Shri shiv Parvati stuti Shri shiv Parvati stuti कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारम् भुजगेन्द्रहारम् ।सदावसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानीसहितं नमामि ॥ मंत्र का पूरा अर्थ  जो कर्पूर जैसे गौर वर्ण वाले हैं, करुणा के अवतार हैं, संसार के सार हैं और भुजंगों का हार धारण करते हैं, वे भगवान शिव माता भवानी सहित मेरे ह्रदय में सदैव निवास करें और उन्हें मेरा नमन है। …

Read More »

Mahashivratri

देवों के देव महादेव और माता पार्वती की शादी की सालगिरह के रूप में पुरे भारतवर्ष में शिव भक्तों द्वारा मनाया जाने वाला त्यौहार है महाशिवरात्रि। दुसरे सभी प्रमुख त्यौहार.....

Read More »

एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर – जटोली शिव मंदिर [Asia’s tallest Shiva temple – Jatoli Shiva Temple]

एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर

पहाड़ की पर निर्मित बहुत ही भव्य और शानदार शिव मंदिर जो की दक्षिण-द्रविड़ शैली में बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण जनता के सहयोग से 1974 में किया गया था। जटोली.....

Read More »

महादेव के पहनावे और ऊसके पीछे के रहस्य – ऐसे तथ्य जो शायद आपको नहीं पता 

श्री गणेश के बारे में रोचक तथ्य

महादेव चित्र में आपने देखा होगा की वो शरीर के निचले हिस्से में व्याघ्र चर्म से लपेटे रहते हैं, देह पर भस्म है, एक हाथ में डमरू और दुसरे में त्रिशूल है, मस्तिष्क पर तिसरी आंख है और गले में रुद्राक्ष की माला है सर्प भी लिप्त हुआ है। वे कैलाश पर्वत पर बैठे हैं और वृषभ की सवारी करते …

Read More »

12 ज्योतिर्लिंग का महत्व

12 ज्योतिर्लिंग का महत्व

श्रवण मास में शिव पूजा का अपना विशेष महत्व है , शिव भक्तो के शिव में रमने से संपूर्ण वातावरण शिव मे हो जाता है ऐसे समय में ये समझना और महत्वपूर्ण हो जाता है.....

Read More »