चालीसा

Durga chalisa |Durga Chalisa ke fayde

श्री-दुर्गा-चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥ निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी॥ शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥ रूप मातु को अधिक सुहावे। दरश करत जन अति सुख पावे॥1॥

Read More »

shree hanuman chalisa

shree hanuman chalisa

-: दोहा :- श्रीगुरु चरन सरोज रज, निजमनु मुकुरु सुधारि बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार

Read More »

shri bramha chalisa

श्री ब्रह्मा चालिसा श्री ब्रह्मा चालिसा ।। दोहा ।। जय ब्रह्मा जय स्वयम्भू, चतुरानन सुखमूल।करहु कृपा निज दास पै, रहहु सदा अनुकूल।।तुम सृजक ब्रह्माण्ड के, अज विधि घाता नाम।विश्वविधाता कीजिये, जन पै कृपा ललाम।। ।। चौपाई ।। जय जय कमलासान जगमूला, रहहू सदा जनपै अनुकूला।रुप चतुर्भुज परम सुहावन, तुम्हें अहैं चतुर्दिक आनन। रक्तवर्ण तव सुभग शरीरर, मस्तक जटाजुट गंभीरा।ताके ऊपर …

Read More »

shri rani sati chalisa

Rani Sati Chalisa ॥ दोहा ॥ श्री गुरु पद पंकज नमन, दुषित भाव सुधार,राणी सती सू विमल यश, बरणौ मति अनुसार,काम क्रोध मद लोभ मै, भरम रह्यो संसार,शरण गहि करूणामई, सुख सम्पति संसार॥ ॥ चौपाई ॥ नमो नमो श्री सती भवानी, जग विख्यात सभी मन मानी।नमो नमो संकट कू हरनी, मनवांछित पूरण सब करनी ॥2॥ नमो नमो जय जय जगदंबा, …

Read More »

shri santoshi maa chalisa

shri santoshi maa chalisa shri santoshi maa chalisa ||दोहा|| बन्दौं सन्तोषी चरण रिद्धि-सिद्धि दातार।ध्यान धरत ही होत नर दुःख सागर से पार॥भक्तन को सन्तोष दे सन्तोषी तव नाम।कृपा करहु जगदम्ब अब आया तेरे धाम॥ ||चालीसा|| जय सन्तोषी मात अनूपम। शान्ति दायिनी रूप मनोरम॥सुन्दर वरण चतुर्भुज रूपा। वेश मनोहर ललित अनुपा॥1॥ श्‍वेताम्बर रूप मनहारी। माँ तुम्हारी छवि जग से न्यारी॥दिव्य स्वरूपा …

Read More »

shri parvati chalisa

shri parvati chalisa

shri parvati chalisa ॥ दोहा ॥ जय गिरी तनये डग्यगे शम्भू प्रिये गुणखानी गणपति जननी पार्वती अम्बे ! शक्ति ! भवामिनी ॥ चालीसा॥ ब्रह्मा भेद न तुम्हरे पावे , पांच बदन नित तुमको ध्यावे शशतमुखकाही न सकतयाष तेरो , सहसबदन श्रम करात घनेरो ।।1।। तेरो पार न पाबत माता, स्थित रक्षा ले हिट सजाता आधार प्रबाल सद्रसिह अरुणारेय , अति …

Read More »

Shri Tulsi Chalisa

shri tulsi chalisa ॥दोहा॥ जय जय तुलसी भगवती सत्यवती सुखदानी।नमो नमो हरि प्रेयसी श्री वृन्दा गुन खानी॥श्री हरि शीश बिरजिनी, देहु अमर वर अम्ब।जनहित हे वृन्दावनी अब न करहु विलम्ब॥ ॥चौपाई॥ धन्य धन्य श्री तुलसी माता। महिमा अगम सदा श्रुति गाता॥हरि के प्राणहु से तुम प्यारी। हरीहीँ हेतु कीन्हो तप भारी॥जब प्रसन्न है दर्शन दीन्ह्यो। तब कर जोरी विनय उस …

Read More »

श्री लक्ष्मी चालीसा

श्री-लक्ष्मी-चालीसा

श्री लक्ष्मी चालीसा ॥ दोहा॥ मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास।मनोकामना सिद्घ करि, परुवहु मेरी आस॥ ॥ सोरठा॥ यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती करुं।सब विधि करौ सुवास, जय जननि जगदंबिका॥ ॥ चौपाई ॥ सिन्धु सुता मैं सुमिरौ तोही।ज्ञान बुद्घि विघा दो मोही ॥ तुम समान नहिं कोई उपकारी। सब विधि पुरवहु आस हमारी॥जय जय जगत जननि जगदम्बा। …

Read More »

maa ganga chalisa

maa ganga chalisa ॥दोहा॥ जय जय जय जग पावनी, जयति देवसरि गंग।जय शिव जटा निवासिनी, अनुपम तुंग तरंग॥ ॥चौपाई॥ Maa Ganga Chalisa Maa Ganga Chalisa जय जय जननी हरण अघखानी। आनंद करनी गंगा महारानी।।जय भगीरथी सुरसरि माता। कलिमल मूल दलिनी विख्याता।।जय जय जहानु सुता अघ हननी। भीष्म की माता जग जननी।।धवल कमल दल मम तनु साजे। लखी शत शरद चंद्र …

Read More »

shri sarswati chalisa

shri sarswati chalisa shri sarswati chalisa ॥दोहा॥ जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि।बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥पूर्ण जगत में व्याप्त तव, महिमा अमित अनंतु।दुष्जनों के पाप को, मातु तु ही अब हन्तु॥ ॥चालीसा॥ जय श्री सकल बुद्धि बलरासी।जय सर्वज्ञ अमर अविनाशी॥जय जय जय वीणाकर धारी।करती सदा सुहंस सवारी॥1  रूप चतुर्भुज धारी माता।सकल विश्व अन्दर विख्याता॥जग में पाप …

Read More »

Chamunda devi chalisa

चामुंडा देवी चालीसा

Chamunda devi chalisa ||दोहा|| नीलवरण मा कालिका रहती सदा प्रचंड ।दस हाथो मई ससत्रा धार देती दुस्त को दांड्ड़ ।। मधु केटभ संहार कर करी धर्म की जीत ।मेरी भी बढ़ा हरो हो जो कर्म पुनीत ।। ||चौपाई|| नमस्कार चामुंडा माता । तीनो लोक मई मई विख्याता ।।हिमाल्या मई पवितरा धाम है । महाशक्ति तुमको प्रडम है ।।1।। मार्कंडिए ऋषि …

Read More »

Shri Lalita mata chalisa

Shri Lalita mata chalisa

श्री ललिता माता चालीसा ।।चौपाई।।   जयति-जयति जय ललिते माता। तव गुण महिमा है विख्याता।। तू सुन्दरी, त्रिपुरेश्वरी देवी। सुर नर मुनि तेरे पद सेवी।। तू कल्याणी कष्ट निवारिणी। तू सुख दायिनी, विपदा हारिणी।। मोह विनाशिनी दैत्य नाशिनी। भक्त भाविनी ज्योति प्रकाशिनी।। आदि शक्ति श्री विद्या रूपा। चक्र स्वामिनी देह अनूपा।। हृदय निवासिनी-भक्त तारिणी। नाना कष्ट विपति दल हारिणी।। दश …

Read More »

shri Vishwakarmaji chalisa

Vishwakarma Chalisa Vishwakarma Chalisa ||दोहा|| श्री विश्वकर्म प्रभु वन्दऊँ, चरणकमल धरिध्य़ान । श्री, शुभ, बल अरु शिल्पगुण, दीजै दया निधान ।। ||चौपाई|| जय श्री विश्वकर्म भगवाना । जय विश्वेश्वर कृपा निधाना ।। शिल्पाचार्य परम उपकारी । भुवना-पुत्र नाम छविकारी ।। अष्टमबसु प्रभास-सुत नागर । शिल्पज्ञान जग कियउ उजागर ।। अद्रभुत सकल सुष्टि के कर्त्ता । सत्य ज्ञान श्रुति जग हित …

Read More »

Shri giriraj chalisa

Shri giriraj chalisa ||दोहा|| बन्दहुँ वीणा वादिनी, धरि गणपति को ध्यान।महाशक्ति राधा, सहित कृष्ण करौ कल्याण।सुमिरन करि सब देवगण, गुरु पितु बारम्बार।बरनौ श्रीगिरिराज यश, निज मति के अनुसार। ||चौपाई|| Shri giriraj chalisa जय हो जय बंदित गिरिराजा, ब्रज मण्डल के श्री महाराजा।विष्णु रूप तुम हो अवतारी, सुन्दरता पै जग बलिहारी।स्वर्ण शिखर अति शोभा पावें, सुर मुनि गण दरशन कूं आवें।शांत …

Read More »

Shri Ramdev Chalisa

Ramdev Chalisa ||दोहा|| श्री गुरु पद नमन करि, गिरा गनेश मनाय। कथूं रामदेव विमल यश, सुने पाप विनशाय।। द्वार केश से आय कर, लिया मनुज अवतार। अजमल गेह बधावणा, जग में जय जयकार।। ||चौपाई|| जय जय रामदेव सुर राया, अजमल पुत्र अनोखी माया। विष्णु रूप सुर नर के स्वामी, परम प्रतापी अन्तर्यामी। ले अवतार अवनि पर आये, तंवर वंश अवतंश …

Read More »

Shri Sheetla mata

Shri Sheetla mata Shri Sheetla mata || दोहा || जय जय माता शीतला तुमही धरे जो ध्यान।होय बिमल शीतल हृदय विकसे बुद्धी बल ज्ञान ॥ घट घट वासी शीतला शीतल प्रभा तुम्हार।शीतल छैंय्या शीतल मैंय्या पल ना दार ॥   || चौपाई || जय जय श्री शीतला भवानी । जय जग जननि सकल गुणधानी ॥गृह गृह शक्ति तुम्हारी राजती । …

Read More »

shri vindheshwari chalisa

shri vindheshwari chalisa || दोहा || दोहा नमो नमो विन्ध्येश्वरी, नमो नमो जगदम्ब। सन्तजनों के काज में करती नहीं विलम्ब। || चौपाई || जय जय विन्ध्याचल रानी, आदि शक्ति जग विदित भवानी। सिंहवाहिनी जय जग माता, जय जय त्रिभुवन सुखदाता। कष्ट निवारिणी जय जग देवी, जय जय असुरासुर सेवी। महिमा अमित अपार तुम्हारी, शेष सहस्र मुख वर्णत हारी। दीनन के …

Read More »

Shri Narmada chalisa

श्री नर्मदा चालीसा ॥ दोह॥ देवि पूजित, नर्मदा, महिमा बड़ी अपार।चालीसा वर्णन करत, कवि अरु भक्त उदार॥इनकी सेवा से सदा, मिटते पाप महान।तट पर कर जप दान नर, पाते हैं नित ज्ञान ॥ ॥ चौपाई ॥ जय-जय-जय नर्मदा भवानी, तुम्हरी महिमा सब जग जानी।अमरकण्ठ से निकली माता, सर्व सिद्धि नव निधि की दाता। कन्या रूप सकल गुण खानी, जब प्रकटीं …

Read More »

Khatu shyam chalisa

Khatu shyam chalisa ||दोहा|| श्री गुरु चरण ध्यान धर, सुमिरि सच्चिदानन्द।श्याम चालीसा भजत हूँ, रच चैपाई छन्द।। ||चौपाई|| Khatu shyam chalisa श्याम श्याम भजि बारम्बारा, सहज ही हो भवसागर पारा।इन सम देव न दूजा कोई, दीन दयालु न दाता होई। भीमसुपुत्र अहिलवती जाया, कहीं भीम का पौत्र कहाया।यह सब कथा सही कल्पान्तर, तनिक न मानों इनमें अन्तर। बर्बरीक विष्णु अवतारा, …

Read More »

श्री विष्णु चालीसा

श्री विष्णु चालीसा

Vishnu Chalisa Shri Vishnu ||दोहा|| विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय।कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय॥ Vishnu Chalisa ||चौपाई|| नमो विष्णु भगवान खरारी, कष्ट नशावन अखिल बिहारी।प्रबल जगत में शक्ति तुम्हारी, त्रिभुवन फैल रही उजियारी॥ सुन्दर रूप मनोहर सूरत, सरल स्वभाव मोहनी मूरत।तन पर पीताम्बर अति सोहत, बैजन्ती माला मन मोहत॥ शंख चक्र कर गदा बिराजे, देखत दैत्य असुर …

Read More »