2020 में बसंत पंचमी कब है।

basant panchami kab hai

basant panchami in hindi

basant panchami 2020 date

वसंतपंचमी पर सरस्वती पूजा की विधि 29 जनवरी 2020 को है। basant panchami 2020 वसंत पंचमी के दिन ज्ञान की देवी माँ सरस्वती की पूजा की जाती है और मां सरस्वती से ज्ञान, विद्या, बुद्धि और वाणी के लिए विशेष वरदान मांगा जाता है। माँ सरस्वती की पूजा में सफ़ेद और पिले फूलों का बहुत महत्त्व है। विद्यालयों, कॉलेज और शिक्षण संस्थाओं में वसंत पंचमी के उपलक्ष्य में विशेष आयोजन रखे जाते हैं।

वसंतपंचमी पर सरस्वती पूजा की विधि ( vasant panchami saraswati puja )

– वसंत पंचमी के शुभ मुहूर्त में किसी शांत स्थान या मंदिर में पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठें।

– अपने सामने लकड़ी का एक बाजोट रखें। बाजोट पर सफेद वस्त्र बिछाएं तथा उस पर सरस्वती देवीका चित्र लगाएं।

– उस बाजोट पर एक तांबे की थाली रखें। यदि तांबे की थाली न हो, तो आप अन्य पात्र रखें।

– इस थाली में कुंकुम या केसर से रंगे हुए चावलों की एक ढेरी लगाएं।

अब इन चावलों की ढेरी पर प्राण-प्रतिष्ठित एवं चेतनायुक्त शुभ मुहूर्त में सिद्ध किया हुआ ‘सरस्वती यंत्र’ स्‍थापित करें।

– इसके पश्चात ‘सरस्वती’ को पंचामृत से स्नान करवाएं। सबसे पहले दूध से स्नान करवाएं, फिर दही से, फिर घी से स्नान करवाएं, फिर शकर से तथा बाद में शहद से स्नान करवाएं।

– केसर या कुंकुम से यंत्र तथा चित्र पर तिलक करें।

– इसके बाद दूध से बने हुए नैवेद्य का भोग अर्पित करें।

– अब आंखें बंद करके माता सरस्वती का ध्यान करें तथा सरस्वती माला से निम्न मंत्र की 11 माला मंत्र जाप करें

|| ॐ श्री ऐं वाग्वाहिनी भगवती सन्मुख निवासिनि सरस्वती ममास्ये प्रकाशं कुरू कुरू स्वाहा: ||

– प्रयोग समाप्ति पर माता सरस्वती से अपने एवं अपने बच्चों के लिए ऋद्धि-सिद्धि, विद्यार्जन, तीव्र स्मरण शक्ति आदि के लिए प्रार्थना करें।

इसके अलावा संगीत कला और आध्यात्म का आशीर्वाद भी इस काल में लिया जा सकता है. अगर कुंडली में विद्या बुद्धि का योग नहीं है या शिक्षा की बाधा का योग है तो इस दिन विशेष पूजा करके उसको ठीक किया जा सकता है.

कब है वसंत पंचमी?

इस बार वसंत पंचमी का पर्व 30 जनवरी को है, लेकिन कई जगहों पर ये 29 जनवरी को भी मनाई जाएगी. वसंत पंचमी पर इस बार पंचांग भेद है. इसलिए 29 जनवरी (बुधवार) को सुबह 10:46 से वसंत पचमी शुरू हो जाएगी और 30 जनवरी (गुरुवार) दोपहर 1:20 तक रहेगी.

वसंत पंचमी पर किन ग्रहों की करें उपासना?

कुंडली में अगर बुध कमजोर हो तो बुद्धि कमजोर हो जाती है. ऐसी दशा में अगर मां की उपासना हरे फल अर्पित करके करें तो लाभदायक होगा. बृहस्पति के कमजोर होने पर विद्या प्राप्त करने में बाधा आती है.

ऐसे में वसंत पंचमी के दिन पीले वस्त्र धारण करके पीले पुष्प और पीले फलों से मां की उपासना करें. अगर शुक्र कमजोर हो तो मन की चंचलता भी होती है और करियर का चुनाव भी नहीं हो पाता है. ऐसी दशा में वसंत पंचमी के दिन मां की उपासना सफेद फूलों से करना लाभदायक होता है.

मां सरस्वती की उपासना से होगा लाभ-

इस दिन पीले, वसंती या सफेद वस्त्र धारण करें. काले या लाल वस्त्र न पहनें. इसके बाद पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके पूजा की शुरुआत करें. सूर्योदय के बाद ढाई घंटे या सूर्यास्त के बाद के ढाई घंटे का प्रयोग इस कार्य के लिए करें.

मां सरस्वती को श्वेत चन्दन और पीले तथा सफेद पुष्प अवश्य अर्पित करें. प्रसाद में मिसरी,दही और लावा समर्पित करें. केसर मिश्रित खीर अर्पित करना सर्वोत्तम होगा. मां सरस्वती के मूल मंत्र “ॐ ऐं सरस्वत्यै नमः” का जाप करें. जाप के बाद प्रसाद ग्रहण करें.

मां सरस्वती की उपासना से क्या लाभ होंगे?-

जिन लोगों को एकाग्रता की समस्या हो, आज से नित्य प्रातः सरस्वती वंदना का पाठ करें. मां सरस्वती के चित्र की स्थापना करें ,इसकी स्थापना पढ़ने के स्थान पर करना श्रेष्ठ होगा. मां सरस्वती का बीज मंत्र भी लिखकर टांग सकते हैं.

जिन लोगों को सुनने या बोलने की समस्या है वो लोग सोने या पीतल के चकोर टुकड़े पर मां सरस्वती के बीज मंत्र “ऐं” को लिखकर धारण कर सकते हैं. अगर संगीत या वाणी से लाभ लेना है तो केसर अभिमंत्रित करके जीभ पर “ऐं” लिखवाएं. किसी धार्मिक व्यक्ति या माता से लिखवाना अच्छा होगा.

कौन से विशेष प्रयोग लाभकारी होंगे?-

वसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को कलम अवश्य अर्पित करें और वर्ष भर उसी कलम का प्रयोग करें. पीले या सफेद वस्त्र जरूर धारण करें. काले रंग से बचाव करें. केवल सात्विक भोजन करें और प्रसन्न रहें

वसंत पंचमी के दिन पुखराज और मोती धारण करना अतीव लाभकारी होता है. वसंत पंचमी के दिन स्फटिक की माला को अभिमंत्रित करके धारण करना भी श्रेष्ठ परिणाम देगा. इस दिन खीर जरूर बनाएं और खाएं. घर को सुगंधित बनाए रखें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Select your currency
INR Indian rupee