Baidyanath Temple | बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर | Baidyanath Jyotirlinga Temple | Ganesh

बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर | Baidyanath Jyotirlinga Temple

Baidyanath Temple


बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर | Baidyanath Jyotirlinga Temple

Baidyanath Temple

baidyanath temple
बैद्यनाथ मंदिर

बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर,
देवगढ़,
झारखंड .
बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर को बाबा बैद्यनाथ धाम के नाम से भी जाना जाता है। यह भारत के झारखंड राज्य में के देवघर में स्थित है। पुरानी मान्यताओं के अनुसार मंदिर की कथा रामायण के समय की है।

राक्षओं के राजा लंकेश्वर रावण बहुत बड़े शिव भक्त थे। उन्होंने शंकर जी को प्रसन्न करने के लिए घोर तपस्या की, इससे खुश हो कर शिव जी ने रावण को कई सारी शक्तियां प्रदान कर दी। और साथ ही एक शिवलिंग भी दिया, पर साथ ही कहा की रावण किसी भी सूरत में शिवलिंग को धरती पर ना रखे, वह शिवलिंग सिर्फ एक ही बार निचे रखा जा सकता था और ऐसा करने पर अनंत काल तक वह शिवलिंग वहीँ रहेगा।

शिवजी द्वारा दिए गए शिवलिंग में कई सारी शक्तियां थी और अगर शिवलिंग एक बार लंका में स्थापित हो जाता तो लंका अपराजेय हो जाती। शिवलिंग की इस शक्ति के बारे में जानकर सारे भगवान डर गये, और इस कोशिश में जुट गए की कैसे रावण को लंका पहुँचने से रोका जाये।

तब भगवान वरुण ने रावण के शरीर में प्रवेश किया और रावण में अंदर मूत्र त्यागने की बहुत तेज ज़रूरत को उत्पन्न किया, जब रावण की ज़रूरत असहनीय हो गयी तब भगवान विष्णु एक किसान के रूप में उसके सामने प्रकट हुऐ और शिवलिंग को पकड़ने के पेशकश की। जैसे ही रावण मूत्र विसर्जन के लिए गया विष्णु जी ने शिवलिंग को धरती पर रख दिया और शिवलिंग वही पर जड़ हो गया।

यह देख रावण भी उसी स्थान पर शिवजी की तपस्या में लीन हो गया और एक-एक कर उसने अपने दसों सिर काट कर भगवान शिव को चढ़ा दिये। शिव ने उसे पुनर्जीवित किया और एक वैद्य की तरह शरीर से सिर जोड़ दिया और इसलिए इस ज्योतिर्लिंग को वैद्यनाथ के नाम से जाना जाने लगा।

Baidyanath Temple

Baidyanath Jyotirlinga Temple,
Deogarh,
Jharkhand.
The temple of Baidyanath Jyotirlinga is also known as Baba Baidyanath Dham. It is located in Deoghar in India’s Jharkhand state. According to old beliefs, the story of the temple goes in the time of Ramayana.

King of demons Lankeshwar Ravana was a very big Shiva devotee. He made great austerity to please Shankar ji, being pleased with it, Shivji gave Ravana many powers. He also gave a Shivling, but also said that Ravana should not keep Shivling on the earth at any given point of time, Shivling could only be kept down once and it would remain their till eternity.

There were many powers in Shivling given by Shiva and if Shivling was once established in Lanka then Lanka would become invincible. Knowing about this power of Shivling, all the Gods were scared and gathered in this effort to prevent Ravana from reaching Lanka.

Then Lord Varun entered the body of Ravana and created a very urgent need of sacrificing urine inside Ravana. When the need for Ravana became unbearable, Lord Vishnu appeared in front of him as a farmer and offered to hold Shivalinga .

As soon as Ravana went to immerse urine, Vishnu kept Shivling on ground and Shivaling got rooted on the same. Seeing this, Ravana also got absorbed in Shiva’s penance at the same place and one by one, he cut off his 10 heads and offered to Lord Shiva. Shiva revived it and added a head to the body like a Vaidya (doctor), and hence this Jyotirling came to be known as Vaidyanath.

|| श्री गणेश | Shree Ganesha ||

PropellerAds

|| महादेव | Mahadeva ||

|| हनुमान | Hanuman ||

PropellerAds

|| ज्योतिर्लिंग | Jyothirling ||

|| भगवान राम ||

PropellerAds

|| भगवान शिव ||

|| माँ दुर्गा ||

PropellerAds

|| ३१ गणेश भजन||

|| ४२ आरती संग्रह ||

|| नवग्रह मंत्र ||

|| नवग्रह कवच ||

PropellerAds

|| टोटके ||

PropellerAds

|| Ganesh ||

|| भगवान शनि देव ||

|| राशिफल 2019 ||

|| आरती ||

|| भगवान के सात दिन ||
|| Seven days of God ||


अपने शहर के प्रसिद्ध गणेश मंदिर के बारे में जानकारी शेयर करे

Share information about the famous Ganesh temple of your city

Learn More >>