8 famous temples of Ganesha

8 famous temples of Ganesha


8 famous temples of Ganesha

Shri Siddhivinayak Mandir (Mumbai)

1801 was built by Shri Lakshman Vitu and Deewai Patil Since then, Shri Siddhivinayak Temple is famous in the country as well as abroad and lakhs of devotees come to visit Siddhivinayak. Siddhivinayak devotees include big-time politicians, actors, sportsmen, businessmen and many more who’s. Tim Cook, who is the CEO of Apple when came to India in 2016, he started his India tour by receiving the blessings Shri Siddhivinayak. Siddhivinayak’s fame attracts people from across the globe.

Shri Khajrana Ganesh (Indore)

Ganesh Temple

The temple was constructed in 1735 by the Queen of Ahlia Bai Holkar, the Empress of the Holkar family, the ancient statue of the temple was seen in the dream of Pandit Mangal Bhatt and was found on excavation near the place of today’s temple. The place where the statue was found, that dug is still present in the temple premises.

Srimant Dagadu Seth Halwai Ganesh Temple (Pune)

8 famous temples of Ganesha
ganesh temple

The construction of the temple was done by Dagdu Seth in 1893 in Pune, Maharashtra, he was a sweet shop owner. In his name only the temple is known as Srimant Dagadu Seth Halvai Ganesh temple. The idol of Ganesh ji in the temple is equipped with loads of gems and gold ornaments.

Kanipakam Vinayak Mandir, Chittoor 

8 famous temples of Ganesha
Ganesh Temple

Located about 75 km from Tirupati in Chittoor district of Andhra Pradesh, and the temple was built by the Chola king Kulothings Chola in the 11th century. It is a beautiful temple, here is a statue of Ganesha, with white, yellow and red colors on the forehead, Brahmotsavam is the main festival of this temple, which is celebrated every year during Vinayak Chaturthi.

Manakula Vinayak Temple, Panducheri

8 famous temples of Ganesha

Manukula Vinayak Mandir is thought to be about 1666 years ago when Panducheri was under French rulers. It is said that the Ganesh statue located on this temple was thrown at sea many times but the daily the Idol was seen in the same place. The name of the temple is named after a pond (Kulam), which used to be located inside the temple with the sand passing along the ocean. There is an elephant in the temple, to which blesses the visitor by placing it’s trunk on devotees head.

Trinetra Ganesh Temple, Ranthambore, Rajasthan

8 famous temples of Ganesha

Trinetra Ganesha Temple is located on the historic 1000-year old Ranthambore fort . It is a very popular temple where devotees from distant places come to receive the blessings of the Trinetra Ganesh. It is believed that the invitation to Lord Krishna and Rukmani’s marriage first came Trinetra Ganesha Temple, and since then people sent their wedding invitation to Trinetra Ganesh. The Trinity Ganesh Temple, Ranthambore is approximately 6500 years old.

Moti Doongri Ganesh Temple, Jaipur 

8 famous temples of Ganesha

In the 18th century Seth Jai Ram Paliwal constructed the Moti Dungri Ganesh temple. A palace of Rajmata Gayatri Devi is also located in the vicinity of the ‘Moti Dungri Palace’ temple. Moti Dungari Ganesh Temple is one of Jaipur’s most famous tourist attractions. This temple offers a very beautiful carvings that attracts tourists, history lovers and art lovers.

Ganpati pule

8 famous temples of Ganesha

Ganapatipule is a small town situated in Ratnagiri district on the Konkan coast of Maharashtra. Chiplun city is situated in the north of it. And located here: Shri Ganapatipule Temple is a temple of a self-proclaimed Ganesh. It is said that thousands of years ago the statue of Shri Ganesha came out of the soil and at that place Ganesh ji’s Ganpatifuela temple is today.

Here the statue of the deity is the west face, unlike the deities in Indian temples, who face the East. It is believed that Shri Ganapatipule protects everyone from the disasters coming from the western door. Ganapatipule Temple is 375 kilometers south of Mumbai and is one of the most beautiful beaches along Konkan coast – a delightful escape that attracts peace seekers, beach lovers, and pilgrims alike.

Comments

Write a Reply or Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *


« »

शुभ मंगल का प्रतिक स्वस्तिक 

स्वस्तिक पुरे युरेशिया (यूरोप और एशिया) में स्वस्तिक पुरातन धार्मिक चिन्ह के रूप में जाना जाता है। भारतीय संस्कृति में स्वस्तिक को देवत्य और आध्यात्मिकता के प्रतिक के रूप में उपयोग किया जाता रहा है।..


क्यों करें घर में गणेश विसर्जन?

श्री गणेश के लाखों भक्त है और गणेश चतुर्थी के उपलक्ष्य में भारत वर्ष के लगभग हर घर में गणपति जी की स्थापना की जाती है। हर घर गणेश, घर घर गणेश। और जैसे की स्थापना की जाती है…..


Bada Ganpati Indore | बड़ा गणपति इंदौर

बड़ा गणपति इंदौर – जैसा की नाम से प्रतीत होता है बड़ा गणपति मंदिर में श्री गणेश की विशाल मूर्ति है। मूर्ति की बड़े आकर के कारण भक्तों ने इसका नाम…..


गणेश चतुर्थी क्यों मनाई जाती है?

पुरे विश्व में गणेश चतुर्थी को बड़े हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है और सभी गणेश भक्त 10 दिनों तक गणपति की बड़ी सेवा करते हैं। श्री गणेश, महादेव


मिट्टी के गणेश जी कैसे बनाते हैं

आगामी 2 सितम्बर 2019 को हम सभी के चहेते श्री गणेश का आगमन गणेश चतुर्थी के आरम्भ के साथ हमारे बिच होगा। हर उम्र हर वर्ग और सिर्फ भारत ही नहीं विदेशों में भी गणपति जी का स्वागत बड़ी ही धूम-धाम और हर्ष..


दक्षिण भारत में गंगा लाये गणपति 

दक्षिण भारत में गंगा लाये गणपति 

शिव पार्वती के विवाह में सम्मिलित होने और विवाह के बाद शिव पार्वती के दर्शन करने के लिए लोग बड़ी संख्या में कैलाश पर्वत की ओर जाने लगे। इतने सरे लोगो में कैलास पर्वत की ओर जाने….


घूमतेगणेश की जानकारी

आमंत्रण
आमंत्रण

घूमते गणेश आयोजन में मंगलमूर्ति श्रीगणेश को आमंत्रित करने के लिए यजमान को शहर के बंधू बांधवो को आमंत्रित करना होगा ताकि अधिक से अधिक लोग आशीर्वाद ले सके साथ ही गणराज भी भक्तो की भीड़ से आनंदित हो उठे , तीन दिनों के इस आयोजन में विघ्हर्ता के सिंहासन को सजा कर , भक्तो और गणपति.......


कहाँ कहाँ जायेंगे
कहाँ कहाँ जायेंगे

घूमते गणेश आयोजन के तहत मंगलमूर्ति गणराज अपने भक्तों के आमंत्रण पर उनके आयोजनों में सम्मिलित होंगे, जैसे शादी, फैक्ट्री का शुभ आरंभ, नये व्यव्साय का आरम्भ या कोई और शुभ अवसर और अपने आशीर्वाद से उस आयोजन को अभूतपूर्व बनाएंगे और सफलता का आशीर्वाद प्रदान करेंगे।.........


श्री गणेश


शुभ मंगल का प्रतिक स्वस्तिक 

स्वस्तिक पुरे युरेशिया (यूरोप और एशिया) में स्वस्तिक पुरातन धार्मिक चिन्ह के रूप में जाना जाता है। भारतीय संस्कृति में स्वस्तिक को देवत्य और आध्यात्मिकता के प्रतिक के रूप में उपयोग किया जाता रहा है।..



महामेरु पंचमुखी गणेश मंदिर 

बंगलुरु से मैसूर जाते हुऐ महामेरु पंचमुखी गणेश मंदिर रास्ते में आता है और काफ़ी दुर से ही मंदिर को देखा जा सकता है। जैसा की नाम से ज्ञात होता है महामेरु पंचमुखी गणेश मंदिर में स्थापित


महादेव


एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर – जटोली शिव मंदिर 

पहाड़ की पर निर्मित बहुत ही भव्य और शानदार शिव मंदिर जो की दक्षिण-द्रविड़ शैली में बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण जनता के सहयोग से 1974 में किया गया था। जटोली…..



शिवलिंग का अर्थ और उससे जुड़ी मान्यताऐं 

जानकारी और ज्ञान के आभाव के कारण शिवलिंग को कुछ लोग पुरुष के शरीर के एक अंग से सम्बंधित कर भ्रमित करते हैं जबकि यह सच नहीं है। भारत की संस्कृति …….


हनुमान


श्री हनुमान चालीसा

-: दोहा :-
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निजमनु मुकुरु सुधारि
बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार



हनुमान जी की आरती

आरती कीजै हनुमान लला की।
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।

जाके बल से गिरिवर कांपे।
रोग दोष जाके निकट न झांके।।


श्री शनि देव

Jagannathv
शनि चालीसा

॥दोहा॥
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल ।दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल ॥ जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज ।करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज ॥

Jagannathv
शनि कवचं

अथ श्री शनिकवचम्
अस्य श्री शनैश्चरकवचस्तोत्रमंत्रस्य कश्यप ऋषिः IIअनुष्टुप् छन्दः II शनैश्चरो देवता II शीं शक्तिः II शूं कीलकम् II शनैश्चरप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः IIनिलांबरो नीलवपुः किरीटी गृध्रस्थितस्त्रासकरो धनुष्मान् II

श्री राम

Jagannathv

श्री राम चालीसा

श्री रघुवीर भक्त हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
निशिदिन ध्यान धरै जो कोई। ता सम भक्त और नहिं होई॥1॥
ध्यान धरे शिवजी मन माहीं। ब्रह्म इन्द्र पार नहिं पाहीं॥
दूत तुम्हार वीर हनुमाना। जासु प्रभाव तिहूं पुर जाना॥2॥

Jagannathv

आरती श्री राम जी

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन, हरण भवभय दारुणम्।
नव कंज लोचन, कंज मुख कर कंज पद कंजारुणम्॥
श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन
कन्दर्प अगणित अमित छवि, नव नील नीरद सुन्दरम्।
पट पीत मानहुं तड़ित रूचि-शुचि