तेरा भवन है रंग बिरंगा

Mata Rani
Mata Rani

Mata Rani

तेरा भवन है रंग बिरंगा वगे चरना दे विच गंगा,
लगदा हर इक नु एह चंगा दातिये,
आया मैं वेखन नु माँ मथा टेकन नु,

तेरे चरना दे विच नील कंठ जी आन खड़े,
तेरे दर ते ब्रह्मा जी ने चारे वेद पड़े,
हो तेरी गरुड सवारी विष्णु जय जय करने माँ,
तेरा इंदर वरगे देवते पानी भरदे माँ,
तेनु पूजे विआस मतंग जी हो रन अन्दर वीर भुजंग जी,
करे बिना नाद दिदंग जी दातिये,
आया मैं वेखन नु माँ मथा टेकन नु,

तू ध्यानु ते शम्भू जेहे भगत भी तारे माँ,
तू नंद लाल निर्धन दे काज सवारे माँ,
तू तारा ते रुक्मण दी विपत मिटाई माँ,
तू रजो ते धर्मो दी लाज बचाई माँ,
अकबर नु रंग विखाया चल नंगे पैरी आया,
सोहने दा छतर चडाया दतिये,
आया मैं वेखन नु माँ मथा टेकन नु,

तेरी मेहर हॉवे ते जाइये तेरे राजा नु,
तेरे कर्म तो विपर पाऊंदे माँ परवाजा नु,
मैं रीजा नाल एह मलियां माँ देहलीजा नु.
कर देन दलीला पुरियां मेरियां रीझा नु,
सुख वनडे तेरा दवारा जिस दवार झुके जग सारा,
पंशी एह कौन विचारा दातिये,
आया मैं वेखन नु माँ मथा टेकन नु,

Comments

Write a Reply or Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *





Related Posts