चिदंबरम नटराज मंदिर,शिव का सबसे बड़ा मंदिर

( Click here for English )

चिदंबरम नटराज मंदिर

शिव का सबसे बड़ा मंदिर,

जिला कुड्डालोर ,तमिलनाडु

शिवजी का सबसे बड़ा मंदिर चिदंबरम नटराज मंदिर, तमिलनाडु के कुड्डालोर जिले में स्थित है। यह मंदिर ४० एकड़ में फैला हुआ है। चोल राजाओं द्वारा १० वीं शताब्दी में मंदिर का निर्माण करवाया गया, उस समय चिदंबरम चोल वंश की राजधानी हुवा करती थी।

चोल वंश नटराज को अपना पारिवारिक देवता मानते थे और इसलिए नटराज मंदिर का निर्माण करवाया गया था। यह मंदिर दक्षिण भारत के प्राचीनतम जिवित मंदिरों में से एक है और आज भी मंदिर का वैभव देखते ही बनता है।

अधिकांश मंदिर भवन उसकी वास्तुकला और संरचना १२ वीं सदी के अंत और १३ वीं शताब्दी की शुरुआत की है, और काफी बाद तक भी इसी तरह की शैली में नए निर्माण मंदिर रहे हैं।

शिव के नटराज रूप को चिदंबरम नटराज मंदिर में दर्शाया गया है पर साथ ही श्रद्धा से शक्तिवाद, वैष्णववाद और हिंदू धर्म की अन्य परंपराओं के प्रमुख विषयों को भी मंदिर में प्रस्तुत किया गया है।

मंदिर की दीवारें सूंदर नक्काशी से सुसज्जित हैं जिनमे की भरत मुनि द्वारा नाट्य शास्त्र के सभी १०८ कारणों को देखा जा सकता है, ये वो मुद्राएँ हैं जो की शास्त्रीय भारतीय नृत्य भरतनाट्यम की नींव बनाती हैं। चिदंबरम शब्द का अर्थ है “ज्ञान का वातावरण” या “विचारों में रँगा हुआ” और यह शहर और मंदिर दोनों के लिए ही एक सामान है।

मंदिर वास्तुकला कला और आध्यात्मिकता, रचनात्मक गतिविधि और परमात्मा के बीच संबंध का प्रतीक है। चिदंबरम नटराज मंदिर को शिव भक्त पांच प्राथमिक लिंगों में से मानते हैं, और हिंदू धर्म के सभी शिव मंदिरों के बीच उच्च स्थान प्राप्त है।

Comments

Write a Reply or Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *





Related Posts