घुमतेगणेश.कॉम


घूमतेगणेश क्या है

घूमते गणेश क्या है

समस्त विघ्न बाधाओं को हरने और घर में मंगल कार्यो को संपन्न करने के रिद्धि- सिद्धि के संग गणपतिजी का आगमन है घूमते गणेश, मंगलमूर्ति श्री गणेश की प्रेरणा से हमने एक कार्यक्रम तैयार किया है जिसमे विघ्नहर्ता श्री गणेश को अपने भक्तों के घर पधारेंगे , उनके आशीर्वाद और प्रेरणा से भक्तों उस आयोजन को रूप देने और संपन्न करने का कार्य करेंगे हम , घूमते हुए श्रीगणेश का भक्तो के घर विराजने के इस आयोजन का एकमात्र उद्देश्य सबका मंगल है।

घूमते गणेश क्या है
घूमते गणेश क्या है

घूमते गणेश आयोजन के तहत मंगलमूर्ति गणराज अपने भक्तों के आमंत्रण पर उनके आयोजनों में सम्मिलित होंगे, जैसे शादी, फैक्ट्री का शुभ आरंभ, नये व्यव्साय का आरम्भ या कोई और शुभ अवसर और अपने आशीर्वाद से उस आयोजन को अभूतपूर्व बनाएंगे और सफलता का आशीर्वाद प्रदान करेंगे। आयोजन देश में हो या परदेश में बस मंगलमूर्ति को सपरिवार आमंत्रित करना होगा और ये आयोजन बन जायेगा भक्तो के जीवन का यादगार पल।


कहाँ कहाँ जायेंगे
आयोजन

घूमते गणेश आयोजन में मंगलमूर्ति श्रीगणेश को आमंत्रित करने के लिए यजमान को शहर के बंधू बांधवो को आमंत्रित करना होगा.........


कहाँ कहाँ जायेंगे
साथ कौन कौन होगा

गणपति महाराज के इस अनूठे आयोजन में गणराज अपने सेवादार, आचार्य , भजन मंडली और सेवक मंडली के साथ ले के पधारेंगे.........


कहाँ कहाँ जायेंगे
घुमतेगणेश के सामाजिक कल्याण उदेश्य से जुड़े

घूमतेगणेश द्वारा विभिन्न प्रकार के सामाजिक कल्याण, पर्यावरण, शिक्षा, स्वास्थ्य.........


कहाँ कहाँ जायेंगे
घूमते गणेश का मंदिर

घूमते गणेश के इस आयोजन में विघ्नहर्ता मंगलमूर्ति के भव्य मंदिर का भी निर्माण किया जायेगा। गणेश यजमान के परिजनों.........

श्री गणेश

दक्षिण भारत में गंगा लाये गणपति 

दक्षिण भारत में गंगा लाये गणपति 

शिव पार्वती के विवाह में सम्मिलित होने और विवाह के बाद शिव पार्वती के दर्शन करने के लिए लोग बड़ी संख्या में कैलाश पर्वत की ओर जाने लगे। इतने सरे लोगो में कैलास पर्वत की ओर जाने….



किस युग में गणेश क्या कहलाये…

हर युग में गणपति धरती पर पधारें हैं। हर युग की आवश्यकताओं के आधार पर, श्री गणपति के जो अवतार हुए हैं, वे हैं- क्रतयुग (सत्ययुग) महोक्तक विनायक जो की ऋषि कश्यप और उनकी पत्नी अदिति से में पैदा हुए थे।