गणेश जन्म

( Click here for English )

गणेश जन्म

एक दिन देवी पार्वती कैलाश पर्वत पर स्नान की तैयारी कर रही थी । देवी पार्वती ने नंदी (शिव के बैल) को दरवाजे की सुरक्षा करने और किसी को पास न आने देने के लिए कहा। पार्वती की इच्छा को पूरा करने का इरादा रखते हुए, नंदी ने ईमानदारी से उनका पद संभाला। लेकिन, जब शिव घर आए और अंदर जाना चाहते थे, तो नंदी ने उन्हें अंदर जाने दिया, क्योकि वह पहले शिव के प्रति वफादार था। 

पार्वती नंदी से गुस्से में थी, लेकिन इससे भी अधिक, इस तथ्य पर गुस्सा थी कि उनके पास खुद का कोई वफादार था क्योंकि नंदी शिव के प्रति वफादार थे। अतः पार्वती ने अपने शरीर पर हल्दी का लेप (स्नान के लिए) किया और उसमें प्राण फूंकते हुए, उसने गणेश की रचना की, और उसे अपना निष्ठावान पुत्र घोषित किया। अगली बार जब पार्वती ने स्नान करने जाने से पहले उन्होंने दरवाजे पर गणेश को तैनात किया। 

नियत समय पर, शिव घर आए, तब गणेश ने उनको रोका और घर में प्रवेश नहीं करने दिया।  इससे शिव क्रोधित हो गए और शिव ने अपनी सेना को लड़के को नष्ट करने का आदेश दिया, लेकिन पूरी सेना गणेश को पराजित करने में असफल रही। 

देवी पार्वती के पुत्र होने के कारण गणेश के पास ऐसी शक्ति थी की उनको कोई हरा नहीं पाया। इससे शिव हैरान हो गए। यह देखकर कि यह कोई साधारण लड़का नहीं था, शिव ने स्वयं लड़ने का फ़ैसला किया, और अपने दिव्य रोष में गणेश के सिर को काट दिया, जिससे वह तुरंत मर गए। जब पार्वती को इस बात का पता चला, तो वह इतनी क्रोधित हुई और अपमानित हुई कि उन्होंने पूरी सृष्टि को नष्ट करने का फैसला किया। 

गणेश जन्म

तब भगवान ब्रह्मा, ने पारवती जी से निवेदन किया कि वह अपनी कठोर योजना पर पुनर्विचार करें। पार्वती जी ने कहा कि वह पुनर्विचार करेगी, लेकिन तभी जब उनकी दो शर्तें पूरी होंगी। 

एक – गणेश को जीवन में वापस लाया जाए, और दो – वह अन्य सभी देवताओं से पहले हमेशा गणेश को पूजा जाए। इस समय तक शिव शांत हो गए, और अपनी गलती का एहसास करते हुए, वे पार्वती की शर्तों पर सहमत हुए। 

शिव ने ब्रह्मा को आदेश दिया कि उन्हें पहला प्राणी उतर दिशा की ओर जाता हुआ मिले उसका सिर काट कर ले आयें। ब्रह्मा जल्द ही एक मजबूत और शक्तिशाली हाथी के सिर के साथ लौटे, जिसे शिव ने गणेश के शरीर पर रखा।शरीर में नई जान फूंकते हुए, उन्होंने गणेश को अपना पुत्र भी घोषित किया, और उन्हें देवताओं में सबसे अग्रणी होने का दर्जा दिया, और सभी गणों के नेता, गणपति को बना दिया ।

कृपया फेसबुक पर ‘हर घर गणेश’ पेज को लाइक करें 
और वेबसाइट घुमतेगणेश.कॉम ( www.ghumteganesh.com ) पर विजिट करें

Comments

Write a Reply or Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *





Related Posts